विशेष रिपोर्ट

जहां छः माह के अपने बच्चे के साथ नींबू पानी बेचकर किया था गुजारा, उसी जगह इंस्पेक्टर बनकर पहुंची एनी

नई दिल्लीः केरल में आने वाले पर्यटकों को नींबू पानी और आइसक्रीम बेचनेवाली 18 वर्षीया एनी शिवा पुलिस इस्पेक्टर बनकर समाज के लिये एक मिसाल बन गईं हैं। उन्होंने कभी सपने में भी नहीं सोचा होगा कि जहां वे नींबू पानी बेचकर जीवन यापन कर रहीं हैं एक दिन  इसी स्थान पर पुलिस इंस्पेक्टर के रूप में तैनात होगी। 31 वर्षीय एनी शिवा सभी बाधाओं को पार करते हुए केरल के वर्कला पुलिस स्टेशन में परिवीक्षाधीन सब-इंस्पेक्टर के रूप में शामिल हुईं।

उन्होंने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा, ‘दस साल पहले मैं वर्कला शिवगिरी आने वाले लोगों को नींबू पानी और आइसक्रीम बेचा करती थी। आज मैं उसी जगह एक पुलिस उपनिरीक्षक के रूप लौटी हूं। मैं अपने अतीत से इससे अच्छा बदला कैसे ले सकती हूं?’

अपने बेटे के साथ एनी शिवा

क्या था मामला

दरअस्ल जब एनी शिवा कांजीरामकुलम के केएनएम गवर्नमेंट कॉलेज में प्रथम वर्ष की छात्रा थीं, तो उन्होंने अपने परिवार की मर्जी के ख़िलाफ जाकर शादी कर ली। जिस शख्स से शादी करने के लिये उन्होंने अपने घरवालों से बग़ावत की थी, उस शख्स ने एक बच्चे को जन्म देने के बाद, उसके पति ने उसे छोड़ दिया। इसके बाद शिवा ने अपने घर लौटने की कोशिश की, लेकिन परिवार ने उसे स्वीकार नहीं किया। वह अपने बेटे शिवसूर्या के साथ अपनी दादी के घर एक शेड में रहने लगी और बाद में बेहतर नौकरी खोजने के लिए जगह बदल ली।

 

शिवा ने फेसबुक पर पोस्ट करते हुए लिखा कि, ‘मैं हमेशा से आईपीएस अधिकारी बनना चाहती थी। लेकिन भाग्य में कुछ और चीजें थीं। अब, मेरे फेसबुक पोस्ट को कई लोगों द्वारा साझा किए जाने के बाद मुझे जिस तरह का समर्थन मिल रहा है, उससे मैं गर्व और भावनात्मक महसूस कर रही हूं। इस पोस्ट में मैंने अपनी खुशी को संक्षेप में साझा किया है।’

उन्होंने कहा कि कहा कि लोगों को एक-दूसरे की मदद करनी चाहिए और अगर कोई महिला अपने पैरों पर खड़े होने की कोशिश कर रही है, तो उन्हें उनकी जीवन कहानी से प्रेरणा मिलेगी।

अपने बेटे के साथ एनी शिवा

क्या कहती है केरल पुलिस

एनी शिवा को उसकी सफलता के लिए बधाई देते हुए केरल पुलिस ने भी ट्वीट किया है जिसमें केरल पुलिस ने लिखा कि, ‘इच्छाशक्ति और आत्मविश्वास का एक सच्चा मॉडल। एक 18 वर्षीय लड़की जो पति और परिवार द्वारा छोड़े जाने के बाद 6 महीने के बच्चे के साथ अपने सड़कों पर छूट गई, वर्कला पुलिस स्टेशन में सब इंस्पेक्टर बनी हैं।’

जहां आंसू बहाए वहीं मिली तैनाती

हालातों से लड़कर सफलता की नई इबारत लिखने वाली एनी शिवा ने बताया, ‘मुझे पता चला कि मेरी पोस्टिंग कुछ दिन पहले ही वर्कला पुलिस स्टेशन में हुई है। यह एक ऐसी जगह है जहां मैंने अपने छोटे बच्चे के साथ आंसू बहाए और तब मेरा साथ देने वाला कोई नहीं था।’ ‘वर्कला शिवगिरि आश्रम के स्टालों में मैंने कई छोटे व्यवसायों की कोशिश की जैसे नींबू पानी, आइसक्रीम से लेकर हस्तनिर्मित शिल्प बेचना। सब कुछ फ्लॉप हो गया। तब एक व्यक्ति ने सुझाव दिया और मुझे सब-इंस्पेक्टर टेस्ट के लिए तैयारी करने के लिए पैसे से मदद की।’