टाइम मैगजीन ने वाजपेयी को कहा था ‘बहुत अधिक शराब पीने वाला व्यक्ति’: प्रियंक खडगे

ज़रूर पढ़े

बेंगलुरुः  कांग्रेस नेता एवं कर्नाटक के पूर्व मंत्री प्रियंक खड़गे ने शनिवार को कहा कि प्रसिद्ध अमेरिकी पत्रिका टाइम मैगजीन ने 2002 में प्रकाशित अपने एक संस्करण में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को ‘बहुत अधिक शराब पीने वाले व्यक्ति’ बताया था।

प्रियंक खड़गे ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय महासचिव सीटी रवि की कांग्रेस नेताओं पर की गयी एक टिप्पणी पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा, “कहा जाता है कि वाजपेयी बहुत अधिक शराब पीते थे। शाम ढलने के साथ ही उन्हें अपने सामने एक गिलास स्कॉच व्हिस्की चाहिए होती थी। वर्ष 2002 में, टाइम पत्रिका में एक लेख प्रकाशित हुआ था। उनसे एक परमाणु हथियार संपन्न राष्ट्र का नेतृत्व करने के लिए उनके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के बारे में मजाकिया लहजे में एक सवाल किया गया था। अपने जवाब में, उन्होंने कहा कि व्हिस्की पीने में कुछ भी गलत नहीं है। यह कानूनी है। तो, क्या हमें यह कहना चाहिए कि सभी बार के नाम वाजपेयी के नाम पर होने चाहिए? रवि को कोई भी टिप्पणी करते समय गरिमा बनाये रखनी चाहिए।”

प्रियंक खड़गे

टाइम पत्रिका ने उस लेख को प्रकाशित किया था जिसमें लिखा था, “उन्होंने (वाजपेयी) अपनी युवावस्था में बहुत शराब पी और अब 74 वर्ष की उम्र में भी रात में एक या दो व्हिस्की का आनंद लेते हैं।” प्रियंक खड़गे, सीटी रवि की उस टिप्पणी पर प्रतिक्रिया व्यक्त कर रहे थे, जिसमें उन्होंने कांग्रेस नेताओं को शराबी बताया था। सीटी रवि ने शुक्रवार को कांग्रेस नेताओं को शराबी कहा था, जिसके जवाब में श्री खड़गे ने यह बात कही। उन्होंने नेहरू-एडविना माउंटबेटन संबंधों के बारे में भाजपा की धारणा पर पलटवार करते हुए कहा कि कांग्रेस में राजकुमारी कौल और वाजपेयी के संबंधों पर चर्चा करने की संस्कृति नहीं है।

उन्होंने कहा, “वे (भाजपा नेता) एडविना माउंटबेटन और नेहरू के संबंधों के बारे में बात करते हैं। अगर ऐसा है, तो उन्हें श्रीमती कौल और वाजपेयी के बीच संबंधों के बारे में क्यों नहीं बोलना चाहिए? है ना? ऐसा कहा जाता है कि वह वाजपेयी के घर में रहती थीं। लेकिन, हमारी वह संस्कृति नहीं है। हम वाजपेयी का सम्मान करते हैं। एक राजनेता एक राजनेता होता है। अगर हम वाजपेयी के खिलाफ बोलेंगे तो उनका कद छोटा नहीं होगा। अगर हम वाजपेयी के बारे में बात करें तो भी उनका कद छोटा नहीं होगा।”

लॉर्ड माउंटबेटन की पत्नी एडविना और स्वतंत्र भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के बीच प्रेम प्रसंग कोई रहस्य नहीं है। उनके प्रसिद्ध प्रसंग पर पुस्तकें लिखी गयी हैं। राजकुमारी कौल और वाजपेयी के संबंधों में भी कुछ छिपा हुआ नहीं है। राजकुमारी कौल कई दशकों तक वाजपेयी की साथी रहीं।

गौरतलब है कि अटल बिहारी वाजपेयी ने राजकुमारी कौल की बेटी नमिता कौल को गोद लिया था और प्रधानमंत्री बनने के बाद कई दशकों तक उनके परिवार के साथ रहे। दोनों एक दूसरे को कॉलेज के दिनों से जानते थे।

ताज़ा खबर

इस तरह की और खबरें

TheReports.In ऐप इंस्टॉल करें

X