देश

अखिलेश की अयोध्या को लेकर की गई घोषणा पर पीस पार्टी ने उठाए सवाल, कहा ‘हिंदुत्व के नए दुलारे हैं अखिलेश’

नई दिल्लीः समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज फैज़ाबाद के अयोध्या में एक सम्मेलन में शिरकत की। इस सम्मेलन में उन्होंने घोषणा की है कि सपा के सरकार में आने पर हम अयोध्या नगर निगम के अंतर्गत आनेवाले  सभी धार्मिक स्थलों और नागरिकों को ‘कर मुक्त’ करेंगे जिससे प्रदेश में रामराज्य की अवधारणा फलीभूत हो। हम जन कल्याण के सच्चे दीये जलाएँगे।

अखिलेश की इस घोषणा पर पीस पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता शादाबा चौहान ने सवाल उठाए हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि अखिलेश सॉफ्ट हिंदुत्व की राह पर चल रहे हैं। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश की 22 करोड़ का अखिलेश यादव ने अपमान किया है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में 22 करोड़ लोग रहते हैं ऐसे में किसी एक क्षेत्र विशेष के लोगों को सुविधा देने की बात करना बाकी की जनता का अपमान है।

शादाब  ने कहा कि हिंदुत्व के नए दुलारे अखिलेश जी  रामराज्य की धारणा पूरी करने के लिए अयोध्या वासियों को  कर मुक्त करेंगे क्या यही इंसाफ होगा? BJP के एजेंडे पर चलकर हिंदुत्व की राह पकड़ चुके हैं। अखिलेश यादव जी, हम कहते हैं कि अहकाम ए इलाही निजाम ए मुस्तफा का राज कायम करके सब के साथ इंसाफ करेंगे। शादाब ने कहा कि सूबे में पूरे पांच साल अखिलेश यादव मुख्यमंत्री रहे, जो वादे वे अब कर रहे हैं वे वादे उन्हें मुख्यमंत्री रहते क्यों नहीं याद आए।

उन्होंने कहा समाजवाद की बात करने वाले अखिलेश यादव ने कभी पाल, राजभर, सैनी, गुर्जर समाज के बीच से कोई डिप्टी सीएम क्यों नहीं बनाया। क्यों उन्होंने किसी मुसलमान को राज्य का डिप्टी सीएम नहीं बनाया। उन्होंने कहा कि एक क्षेत्र विशेष के लोगों को करमुक्त करने का वादा करना, बाकी राज्य की जनता का अपमान है। उन्होंने कहा कि सपा सुप्रीम संघ के इशारे पर हेडगवार और सावरकर की विचाधारा पर चले रहे हैं।