चर्चा में

शाहीन बाग़ में चल रहे सिख समुदाय के लंगर ने भारत को जिता दिया, अब सत्ता जो चाहे….

कृष्णकांत

शाहीन बाग में चल रहे लंगर ने भारत को जिता दिया. शाहीन बाग के नाम ध्रुवीकरण करने वाली सियासत हार गई. इस लंगर के लिए पैसे की कमी हुई तो डीएस बिंद्रा ने अपना फ्लैट बेच दिया. भारत की यही जनता है जिससे भारत की उम्मीद कायम रहती है. जब भी भारत को हराने की साजिश रची जाती है, भारत की जनता उसे नाकामयाब कर देती है.

डीएस ब्रिद्रा हाई कोर्ट में वकील हैं. उन्होंने लोहड़ी के पहले शाहीन बाग में लंगर चलाना शुरू किया. कुछ दिन उनके लंगर मुस्तफाबाद और खुरेजी में भी चले. इसमें उनके परिवार के लोग भी शामिल हैं. पैसे की कमी आई तो बिंद्रा ने अपने तीन फ्लैट्स में से एक बेच दिया. पहले तो उनकी पत्नी ने विरोध किया, लेकिन बाद में वे भी मान गईं.

फिलहाल उनका लंगर शाहीन बाग में चल रहा है. बिंद्रा का कहना है कि हम गुरुद्वारे में दान करते हैं. बेहतर है कि हम उसी पैसे को इंसानियत की सेवा में लगाएं. वाहे गुरु ने जो दिया है कि उसे रखने का क्या फायदा है. जो ईश्वर ने दिया है उसे लोगों की सेवा में लगाने में ही भला है.

सियासत अपनी नफरती चालें चलती हैं, लेकिन समाज अपनी स्वाभाविक चाल से आगे बढ़ता रहता है. जब शाहीन बाग के नाम पर सियासत हिंदू मुस्लिम की सियासी चाल रही है, एक सिख समुदाय के सिपाही ने लोगों को लंगर खिलाने के लिए अपना फ्लैट बेच दिया है.

दिल्ली में वोटिंग के दिन आखिरी समय तक शाहीन बाग के नाम पर वोटिंग की अपील की गई, शाहीन बाग को मुस्लिम समाज का प्रतीक बनाने की कोशिश हुई, सियासत ने समाज में व्याप्त जिस भरोसे को तोड़ने की कोशिश की, उसे बिंद्रा ने बहाल कर दिया. डीएस बिंद्रा जी को मेरा सलाम पहुंचे!

2 thoughts on “शाहीन बाग़ में चल रहे सिख समुदाय के लंगर ने भारत को जिता दिया, अब सत्ता जो चाहे….

  1. I wanted to send you the very little remark to finally thank you the moment again over the spectacular techniques you have shared on this page. This has been simply surprisingly open-handed with you to offer unhampered what most of us would’ve offered for sale for an ebook to help make some money on their own, precisely seeing that you might have tried it in case you desired. Those tactics in addition worked to become good way to realize that some people have the identical keenness similar to my personal own to realize significantly more when it comes to this matter. I believe there are several more pleasant sessions up front for people who scan through your site.

  2. I am only writing to make you understand what a remarkable experience our princess undergone viewing your webblog. She picked up some things, which included what it is like to possess an ideal teaching spirit to make the mediocre ones without difficulty master specified tortuous things. You undoubtedly surpassed readers’ expected results. Thanks for rendering those useful, trustworthy, revealing as well as unique tips on your topic to Mary.

Leave a Reply

Your email address will not be published.