कुछ फतवों के आधार पर मदरसों को निशाना बनाना निंदनीय: एसआईओ

नई दिल्लीः राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (NCPCR) ने सहारनपुर डीएम को पत्र लिखकर दारुल उलूम देवबंद की वेबसाइट पर बच्चों को गोद लेने सहित अन्य मुद्दों पर कुछ फतवों के खिलाफ कार्रवाई करने को कहा है। एनसीपीसीआर द्वारा सहारनपुर जिलाधिकारी को लिखा गया पत्र कुछ कुछ फतवों के आधार पर मदरसों और उनकी शिक्षा को निशाना बनाने का एक प्रयास है।

उन्होंने कहा कि फतवा और कुछ नहीं बल्कि व्यक्तिगत और सामाजिक जीवन से संबंधित विभिन्न मामलों पर धार्मिक विद्वानों के व्यक्तिगत विचार होते हैं। वास्तव में अक्सर कई मुद्दों पर विद्वानों की अलग-अलग राय होती है और उनमें से कोई भी राय कानूनी या संस्थागत मंजूरी नहीं रखती है। लोग धर्म के बारे में अपनी समझ के अनुसार कार्य करने के लिए पूरी तरह से स्वतंत्र हैं।

यह भारत में कानून की एक स्थापित स्थिति है कि विरासत, विवाह, तलाक और गोद लेने सहित अन्य व्यक्तिगत मामलों के मुद्दों को विभिन्न समुदायों और धर्मों के संबंधित परम्परागत कानूनों द्वारा तय किया जाता है। एनसीपीसीआर के अधिकारियों को भारतीय कानून की इस तय स्थिति के बारे में पता होना चाहिए, जो संविधान द्वारा संरक्षित है। एक जाने-माने मुस्लिम मदरसे को निशाना बनाना न केवल संस्था बल्कि पूरे मुस्लिम समुदाय को बदनाम करने की एक घटिया और बेशर्म कोशिश है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *