मेरठ: सपा रालोद की रैली में उमड़ा जन सैलाब, एक सुर में बोले जयंत अखिलेश, नफरत की राजनीति करने वाले बौखला गए

0
186

समाजवादी पार्टी (सपा) और राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) की मंगलवार को संयुक्त परिवर्तन संदेश रैली में गठबंधन की औपचारिक घोषणा करते हुए उत्तर प्रदेश में डबल इंजन की सरकार देने का वादा किया गया।

इस अवसर पर अपने संबोधन में रालोद मुखिया जयंत चौधरी ने कहा कि रैली में उमड़े जन सैलाब ने साबित कर दिया है कि गठबंधन पश्चिम के किसान, जाट, यादव और मुस्लिमों के लिये बदलाव लेकर आया है। किसानों पर किये गये जुल्म ज्यादती और उन्हें शहीद किये जाने से जनता का अपमान हुआ है।

उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि इतना कुछ होता रहा और सरकार देखती रही। भाजपा के लोग सिर्फ नफरत फैलाते हैं जबकि नौजवानों को नौकरी नहीं मिल रही है और उन्हें दूसरे राज्यों की ओर पलायन करना पड़ रहा है। जयंत चौधरी ने तंज कसते हुए कहा कि मुख्यमंत्री योगी औरंगजेब से बात शुरू करते हैं और पलायन पर आकर लोगों का ध्यान सरकार की नाकामी से भटकाने का काम कर रहे हैं।

जयंत चौधरी ने कहा कि शहीद किसानों की याद में चौधरी चरण सिंह की कर्म भूमि मेरठ में एक विशाल स्मारक बनवाया जायेगा। उन्होंने कहा कि चौधरी चरण सिंह की जयंती पर आगामी 23 दिसम्बर को अलीगढ़ में एकत्रित होकर एक विशाल रैली की जायेगी।

प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा कि जिस दिन इस गठबंधन की नीव रखी गई थी उसी रोज प्रदेश के दूसरे हिस्सों में ऐलान हो गया था कि पश्चिम में भाजपा का सूरज हमेशा के लिये डूब जायेगा। उन्होंने नारा दिया “किसानों का इंकलाब होगा, 22 में बदलाव होगा”। उन्होंने कहा कि पश्चिम में हमारा ही परचम लहरायेगा।

यादव ने कहा कि जिस तरह किसानों ने कृषि कानूनों के खिलाफ लड़ाई लड़ी उसके बाद किसानों ने भाजपा के लिये अपने तमाम दरवाजे बन्द कर दिये हैं। उन्होंने कहा कि हम हर हालत में किसानों को उनके अधिकार दिलवायेंगे। नफरत की राजनीति करने वाले इस गठबंधन से बौखला गये हैं क्योंकि उनको अपने हाथ से बड़े पैमाने पर सीटें जाती हुई दिखाई देने लगी हैं। उन्होंने यह भी कहा कि गठबंधन में सीटों को बंटवारा आपसी रजामंदी से हो चुका है और इसमें कोई मतभेद नहीं है।

दबथुवा में रैली स्थल पर दो मंच बनाए गए थे, जिसमें एक पर अखिलेश यादव और चौधरी जयंत सिंह रहे, इनके साथ दोनों पार्टियों के करीब 50 मुख्य पदाधिकारी रहेंगे। जबकि दूसरे मंच पर करीब 100 अन्य पदाधिकारी मौजूद थे। मंच के आस पास स्वर्गीय चौधरी अजित सिंह के होर्डिंग के अलावा रसोई गैस सिलेंडर के बढ़ते दामों और गन्ना मूल्य की ओर ध्यान आकर्षित करने के लिये उनके बड़े बड़े कटआउट लगाये गये थे।

सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव आज सुबह साढ़े 10 बजे लखनऊ अमौसी एयरपोर्ट से एक निजी वायुयान से चलकर 11 बजकर 20 मिनट पर हिंडन एयरपोर्ट गाजियाबाद पहुंचे थे। फिर वहां से रालोद के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी जयंत सिंह के साथ साढ़े 11 बजे मेरठ के लिए निजी हेलीकॉप्टर से रवाना हुए। 11 बजकर 50 मिनट पर मेरठ के दबथुवा हेलीपैड पर पहुंचे। रैली के बाद दोपहर 2 बजकर 30 मिनट पर वे हेलीकॉप्टर से गाजियाबाद के लिए रवाना हो गये।

सपा और रालोद गठबंधन की रैली की तैयारियों के सिलसिले में सपा के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल समेत दोनों ही पार्टियों के पदाधिकारी पिछले चार दिन से मेरठ में ही डेरा डाले हुए थे। इस मौके पर वरिष्ठ रालोद नेता तथा पूर्व सिंचाई मंत्री डा मेराजुद्दीन अहमद, शाहिद सिद्दीकी आदि भी मौजूद थे।