कांग्रेस स्थापना दिवस पर बोलीं सोनिया, हमारी गंगा-जमुनी संस्कृति को मिटाने की नापाक कोशिश हो रही है।

नयी दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने सरकार पर हमला करते हुए कहा है कि वह तानाशाही तरीके से चलकर इतिहास को झुठला रही रही है और लोगों को डरा धमका कर गंगा जमुनी तहजीब को नष्ट किया जा रहा है।

सोनिया गांधी ने मंगलवार को यहां कांग्रेस के 136वें स्थापना दिवस पर कार्यकर्ताओं से कहा कि आज देश की मजबूत बुनियाद को कमजोर करने का प्रयास हो रहा है और इतिहास को झुठला कर हमारी विरासत गंगा-जमुना संस्कृति को मिटाने की नापाक कोशिश हो रही है।

उन्होंने कहा कि आज देश का आम नागरिक असुरक्षित और भय महसूस कर रहा है क्योंकि लोकतंत्र और संविधान को दरकिनार कर सिर्फ तानाशाही चल रही है। इस स्थिति में कांग्रेस चुप नहीं रहेगी और विरासत को नष्ट करने की इजाजत किसी को नहीं देगी।

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि आम जनमानस और लोकतंत्र की रक्षा के लिए देश विरोधी और समाज विरोधी साजिशों के खिलाफ कांग्रेस संघर्ष करेगी और हर कुर्बानी देगी।

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि हमारी गंगा-जमुनी संस्कृति को मिटाने की कोशिश हो रही है। देश का आम नागरिक असुरक्षित महसूस कर रहा है। लोकतंत्र व संविधान को दरकिनार किया जा रहा है, ऐसे में कांग्रेस चुप नहीं रह सकती।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी इस अवसर पर शुभकामनाएं देते हुए कहा “हम कांग्रेस हैं- वो पार्टी जिसने हमारे देश में लोकतंत्र की स्थापना की और हमें इस धरोहर पर गर्व है। कांग्रेस स्थापना दिवस की शुभकामनाएँ।”

सोनिया गांधी ने कहा कि 136 वर्ष पुरानी कोंग्रेस सिर्फ एक राजनीतिक पार्टी का ही नाम नहीं बल्कि एक आंदोलन का नाम है। इसकी स्थापना किन परिस्थितियों में हुई यह सब जानते है।

उन्होंने कहा कि आज़ादी के आंदोलन में कांग्रेस और उसके तमाम नेताओं ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया, संघर्ष किया, जेलों में कठोर यातनाएं झेली और बहुत से देश भक्तों ने अपने प्राणों तक का बलिदान दिया, तब जाकर कहीं आजादी मिली। आजादी के बाद हमें जो भारत मिला उसकी कल्पना करना कठिन है, लेकिन हमारे महान नेताओं ने बड़ी सूझबूझ और दृढ़ निश्चय के साथ भारत के नव-निर्माण की एक मजबूत बुनियाद रखी जिस पर चलकर एक सशक्त भारत खड़ा हुआ।

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि कोंग्रेस और उसके नेताओं ने एक ऐसे भारत का निर्माण किया जिसमें सभी देशवासियों के अधिकारों और हितों का ध्यान रखा गया। जिन लोगों ने आजादी के आंदोलन में भागीदारी नहीं दिखाई वह इसकी कीमत कभी नहीं समझ सकते। आज भारत की उस मजबूत बुनियाद को कमजोर करने का हर संभव प्रयास किया जा रहा है।

उन्होंने कहा “आज के इस ऐतिहासिक अवसर पर एक-एक कांग्रेस जन को यही संकल्प लेना है और कांग्रेस संगठन को मजबूत बनाना है।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *