शोएब मलिक के भतीजे ने किया कमाल, प्रथम श्रेणी क्रिकेट में तिहरा शतक बनाने वाले दूसरे सबसे कम उम्र के खिलाड़ी बने

ज़रूर पढ़े

कराचीः 19 साल की उम्र में मोहम्मद हुरैरा, जावेद मियांदाद के बाद पाकिस्तान के प्रथम श्रेणी क्रिकेट में तिहरा शतक बनाने वाले दूसरे सबसे कम उम्र के बल्लेबाज़ बन गए हैं। मियांदाद ने यह कारनामा 17 साल 310 दिन की उम्र में किया था, तब उन्होंने कराची व्हाइट्स की तरफ से खेलते हुए नेशनल बैंक ऑफ़ पाकिस्तान के ख़िलाफ़ 311 रन बनाए थे। हुरैरा की 343 गेंदों और 561 मिनट में 311 रनों की पारी पाकिस्तान की धरती पर 23वां तिहरा शतक था और इस शतक ने उन्हें यह उपलब्धि हासिल करने वाला 18वां पाकिस्तानी खिलाड़ी बना दिया।

सियालकोट के रहने वाले हुरैरा, शोएब मलिक के सौतेले भाई के बेटे हैं। वह नॉर्दर्न के लिए अपने पहले प्रथम श्रेणी सत्र में हैं, लेकिन वह इस सीज़न 16 पारियों में 58.53 की औसत से 878 रन के साथ दूसरे सबसे अधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी हैं। जिसमें तीन शतक और तीन अर्द्धशतक शामिल हैं। हुरैरा की टीम 25 दिसंबर से शुरू हो रहे क़ायदे आज़म ट्रॉफ़ी के फ़ाइनल में खै़बर पख़्तूनख़्वा से भिड़ेगी।

नवंबर में सिंध के एहसान अली के नाबाद 303 रन के बाद यह इस सीज़न का दूसरा तिहरा शतक है। 2016 में कराची व्हाइट्स के सलामी बल्लेबाज़ हमज़ा घांची, मियांदाद और आफताब बलूच के बाद पाकिस्तान में तिहरा शतक बनाने वाले तीसरे सबसे कम उम्र के खिलाड़ी हैं, और अपने पहले प्रथम श्रेणी शतक को तिहरे शतक में बदलने वाले इतिहास के छठे बल्लेबाज़ बन गए हैं।

हुरैरा ने 17 साल की उम्र में पीसीबी अंडर 19 एकदिवसीय टूर्नामेंट में 342 रन के साथ शीर्ष स्कोरर बनकर उभरे थे। इसके बाद उन्हें पिछले साल अंडर -19 विश्व कप के लिए पाकिस्तान टीम के लिए चुना गया था और अफ़ग़ानिस्तान के ख़िलाफ़ यूथ वनडे डेब्यू पर उन्होंने अर्धशतक भी जमाया था, उन्हें उस मैच में उनके 64 रन और दो कैचों के लिए प्लेयर ऑफ़ द मैच घोषित किया गया था।

ताज़ा खबर

इस तरह की और खबरें

TheReports.In ऐप इंस्टॉल करें

X