देश

अल्पसंख्यक समाज के बुद्धिजीवियों से मिले शाहनवाज़, बोले ‘उद्योग क्षेत्र में नई ऊंचाई प्रदान करने में सहभागिता’

नई दिल्लीः बिहार सरकार में उद्योगमंत्री सैय्यद शाहनवाज़ हुसैन बिहार में उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए जी जान से लगे हुए हैं। वे लगातार केंद्रीय मंत्रियों, कॉर्पोरेट्स सैक्टर के लोगों, तथा उद्यमियों से मुलाक़ात कर रहे हैं। इसी क्रम में उन्होंने शुक्रवार को बिहार प्रदेश से बड़ी संख्या में अल्पसंख्यक समाज के बुद्धिजीवियों ने मुलाकात की और बिहार में उद्यमिता और उद्योगों को बढ़ावा देने वाली सभी योजनाओं को लेकर चर्चा की।

 

इस दौरान शाहनवाज़ हुसैन ने कहा कि हमने अपील की है कि मुख्यमंत्री उद्यमी योजनाओं से लेकर उद्योगों को बढ़ावा देने वाली उद्योग विभाग सभी योजनाओं का लाभ बिहारवासी उठाएं और राज्य को उद्योग क्षेत्र में नई ऊंचाई प्रदान करने में अपनी सहभागिता सुनिश्चित करें।

अल्पसंख्यक समाज के लोगों से मुलाक़ात के बाद उद्योगमंत्री ने दरभंगा के अशोक पेपर मिल का विवाद हल करने के लिए एक उच्चस्तरीय बैठक की जिसमें दरभंगा के जाले से विधायक और बिहार सरकार के श्रम संसाधन और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री जिवेश मिश्रा, हायाघाट से बीजेपी विधायक डॉ. रामचंद्र प्रसाद, अशोक पेपर मिल मजदूरों के प्रतिनिधि शाहनवाज अहमद कैफी, अशोक पेपर मिल प्रबंधन के प्रतिनिधि अभिजीत कुमार, उद्योग विभाग के अपर मुख्य सचिव बृजेश मेहरोत्रा जी और अन्य वरिष्ठ विभागीय अधिकारी शामिल हुए। बैठक में अशोक पेपर मिल विवाद से जुड़े दोनों पक्षों को विस्तार पूर्वक सुना और सभी जानकारी हासिल की।

 

बीते रोज़ वितरित किए थे चैक

बिहार सरकार में उद्योगमंत्री सैय्यद शाहनवाज़ ने बीते रोज़ उद्यमियों को चैक वितरित किये थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि करीब 25 साल बाद आज उद्योग विभाग के तीन निगमों के 848 कर्मचारियों के 106.90 करोड़ रुपए के लंबित वेतन का भुगतान शुरु किया। पहली किस्त के रुप में आज 848 कर्मियों या उनके परिजनों को 29.85 करोड़ रुपए निर्गत किए।

उन्होंने कहा कि बिहार राज्य हस्तकरघा एवं हस्तशिल्प निगम के 370 कर्मचारियों को कुल 14 करोड़ रुपए की राशि प्रथम किस्त के रुप में दी गई है तो बिहार राज्य औषधि एवं रसायन विकास निगम के 324 कर्मचारियों को कुल 11.6 करोड़ रुपए की राशि वहीं बिहार राज्य वस्त्र निगम के 54 कर्मचारियों को 4.25 करोड़ रुपए लंबित वेतन के भुगतान के रुप में दिया गया है।

उद्योगमंत्री ने कहा तीनों निगमों के कर्मचारियों के बाकी बचे वेतन और पीएफ के भुगतान के लिए भी 77.05 करोड़ रुपयों का आवंटन हो गया है, इसका वितरण जल्द किया जाएगा। हम बिहार में उद्योगों के विकास और पूंजी निवेश को बढ़ावा देने के साथ विभाग के कर्मियों की भी चिंता कर रहे हैं।