देश

मंदसौर की घटना पर बोले शादाब, ‘मस्जिद पर हमला 1992 में बाबरी मस्जिद पर हुए हमले की याद दिलाता है।’

नई दिल्लीः मध्यप्रदेश के मंदसौर जनपद के एक गांव में भगवाधारियों ने मस्जिद पर हमला किया। इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। वायरल हो रहे वीडियो में साफ दिख रहा है कि पुलिस की मौजूदगी में मस्जिद के बाहर सैंकड़ों भगवाधारी खड़े हैं और एक युवक मस्जिद पर भगवा झंडा बांध रहा है। इसका वीडियो वायरल होने के बाद पीस पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता शादाब चौहान ने चिंता व्यक्त की है, उन्होंने आरोप लगाया कि आरएसएस और भाजपा देश को गृहयुद्ध की तरफ ले जाना चाहतीं हैं।

शादाब ने कहा कि मंदसौर और उज्जैन में जिस तरह अल्पसंख्यकों को निशाना बनाया गया है, वह निंदनीय है। उन्होंने कहा कि मंदसौर के ग्रामीण क्षेत्र में मस्जिद पर किया गया हमला 6 दिसंबर 1992 की याद दिलाता है। जब सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा देने के बावजूद बाबरी मस्जिद को सरकार की शह और प्रशासन की मिलीभगत के चलते शहीद कर दिया गया था। उन्होंने कहा कि 1992 से लेकर आज तक देश में कुछ भी नहीं बदला, आज भी अल्पसंख्यकों की इबादतगाहों को निशाना बनाया जा रहा है।

पीस पार्टी प्रवक्ता ने कहा कि इस तरह की घटनाएं समाज और देश के हित में नहीं हैं। इन घटनाओं से देश पीछे ही जाएगा। शादाब ने कहा कि भाजपा और आरएसएस जिस तरह धर्म के नाम पर एक समुदाय को टार्गेट कर रहा है वह देश के गृहयुद्ध की तरफ ले जा रहा है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में सत्ता संरक्षण में पलने वाले कट्टरपंथियों ने पहले एक संप्रदाय के खिलाफ नारेबाजी की और फिर पुलिस ने भी ऐसे असमाजिक तत्वों पर कार्रावाई करने के बजाय उल्टे पीड़ित समाज के लोगों पर ही मुकदमे दर्ज कर दिये और उनके घरों को तोड़ दिया। शादाब ने कहा कि ये घटनाएं बता रहीं हैं कि भाजपा एक संप्रदाय को दोयम दर्जे का नागरिक बनाने पर तुली हुई है।