रिक्शा चलाकर अपने परिवार का पेट पालने वाली नूर बानो की हिम्मत को सलाम

15
8233

This Content Is Only For Subscribers

Please subscribe to unlock this content.

कृष्णकांत

दिल्ली की सड़कों पर ऐसा नजारा हो सकता है ​आपने भी देखा हो। जिस दिल्ली की सड़कें हम आपको डराती हैं, नूर बानो उसी दिल्ली की सड़कों पर ईरिक्शा चलाती हैं। शहर में ईरिक्शा अभी नया है। ईरिक्शे पर नूर बानो का बैठना उससे भी नया। लेकिन उससे भी ज्यादा नया है नूर बानो का हौंसला, वे मर्दों की उस दुनिया में कूद पड़ी हैं जो बेहद अराजक और हिंसक है। नूर बानो इसका डटकर मुकाबला कर रही हैं।

नूर बानो के शौहर रिक्शा चलाते थे। एक दिन उनका एक्सीडेंट हो गया। पैर टूट गया। अब वे पड़ गए बिस्तर पर, इलाज का बेइंतहा खर्च अलग से। परिवार संकट में आ गया। अब नूर बानो ने फैसला किया कि वे खुद कुछ करके परिवार का पेट पालेंगी। उन्होंने ​कुछ लोगों की मदद से जैसे तैसे करके ईरिक्शा खरीदा और चलाना सीखा। फिर क्या था। नूर बानो ने स्टेयरिंग थामी, नकाब पहना और निकल गईं सड़कों पर। नूर बानो काम तो मर्दों वाला करती हैं, लेकिन कभी अपना नकाब नहीं उतारतीं, फोटो खिंचवाने के लिए भी नहीं।

इस संवाददाता को नूर बानो बीते वर्ष अक्टू​बर में दिल्ली के सीलमपुर में मिली थीं। जब उनसे पूछा गया कि आम तौर पर महिलाएं टेंपो, आटो, ईरिक्शा जैसे डग्गामार वाहनों से सवारी ढोने के काम में नहीं हैं। आपने यह काम कैसे शुरू किया? तो नूर बानो ने कहा, बच्चे पालना था। कोई और चारा नहीं दिखा। शौहर के अपंग हो जाने के बाद कुछ तो करना था जिससे ठीकठाक पैसा भी मिले। ​मुझे यही काम पसंद आया।

जब नूर बानो से सवाल किया गया कि, क्या आपको दिक्कत आती है? वे बोलीं, सबसे ​बड़ी दिक्कत यही है कि लोग अजीब नजरों से देखते हैं जैसे कोई अजूबा देखा हो। उनको लगता होगा कि औरत होकर मर्दों वाला काम कैसे करती है। लोगों का ऐसे देखना अजीब लगता है, लेकिन अब आदत पड़ गई है।

नूर बानो से जब इस संवाददाता से पूछा, ‘आपकी फोटो ले सकते हैं?’ वे बोलीं, ‘ले सकते हो, लेकिन मेरी फोटो लेकर क्या करोगे?’ जब उन्हें बताया गया कि हम मीडिया से हैं, पत्रकार हैं, आपकी तारीफ करेंगे।’ इस पर वे हंसने लगी थीं। बोलीं, ‘अपने अखबार में छाप देना।’ इस संवाददाता की जानकारी के मुताबिक, दिल्ली में नूर बानो जैसी करीब 16 महिलाएं ऐसी हैं जो ईरिक्शा चलाती हैं।

15 COMMENTS

  1. Thanks for the auspicious writeup. It in reality was a entertainment account it.

    Look complex to far brought agreeable from you! However, how
    can we communicate?

  2. Thanks for sharing excellent informations. Your web-site is very cool. I’m impressed by the details that you have on this blog. It reveals how nicely you perceive this subject. Bookmarked this web page, will come back for extra articles. You, my friend, ROCK! I found just the info I already searched everywhere and simply could not come across. What a perfect web-site.

  3. Hello, i think that i saw you visited my website so i came
    to “return the favor”.I am trying to find things to improve my web site!I suppose its ok to use some of
    your ideas!!

  4. Hey There. I found your blog the use of msn. That is a really well written article.
    I will be sure to bookmark it and return to read extra of your helpful info.
    Thanks for the post. I will certainly comeback.

  5. Its like you read my mind! You appear to know so much about this, like
    you wrote the book in it or something. I think that you can do with some pics to drive the message home a bit,
    but instead of that, this is fantastic blog. An excellent read.
    I’ll definitely be back.

Leave a Reply