अभद्र भाषा, धर्म संसद जैसे कार्यक्रम देश के सौहार्द और भाईचारे के लिए बेहद खतरनाक: शेख मुहम्मद युसूफ

नई दिल्ली: जमीयत उलेमा-ए-दिल्ली के उपाध्यक्ष और जाने-माने सामाजिक कार्यकर्ता हाजी यूसुफ शेख ने नई दिल्ली में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि नफरत फैलाने वाले भाषण के लिए सभी अपीलों के बावजूद प्रधान मंत्री की चुप्पी संवैधानिक ज़िम्मेदारी पल्ला झारने  के समान है,  इतने बड़े मुद्दे पर ऐसी चुप्पी इतिहास में हमेशा याद की  जाएगी। उन्होंने कहा कि हरिद्वार जिले में धर्म संसद कार्यक्रम के माध्यम से एक ही धर्म और पंथ को निशाना बनाना और असभ्य बयानबाजी और घृणास्पद घोषणाएं करना, लोगों को मारना, युवाओं के मन में नफरत डालना निश्चित रूप से देश के खिलाफ है।

उन्होंने कहा कि ये हमारे देश की तारीख रही है कि सभी ने एक-दूसरे के दुखों को अपना माना है। देश में नफरत  का माहौल कभी नहीं पनपा लेकिन आज कुछ लोग देश की शांति और गरिमा के ताने-बाने को फाड़कर देश को बिखेरना चाहते हैं। हाल ही में मौलाना तौकीर रजा ने बरेली में हजारों की भीड़ में ऐसे दुष्ट तत्वों को करारा जवाब देते हुए कहा कि आज हजारों युवा मैदान में मौजूद हैं जो देश के लिए कुर्बानी देने को तैयार हैं, आइए और उनका जोश देखिए.

हाजी शेख मोहम्मद यूसुफ ने अपने सम्मेलन में आगे कहा कि कुछ समय पहले मौलाना सैयद महमूद असद मदनी साहिब ने मेरठ की बैठक में घोषणा की थी कि  बरेलवी मसलक के उलेमा नेता के रूप में आगे आएं, राष्ट्र की सेवा के लिए हम उनके पीछे चलने करने के लिए तैयार हैं। इनके  द्वारा किए गए उपरोक्त बयान और घोषणाएं एक सराहनीय कदम है  जो पूरे देश और मुस्लिम  के बीच एकता और सद्भाव का माहौल बनाएगी। भविष्य में, पूरा देश एकजुट होंगे और स्थिति का उचित जवाब देंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *