खेल

अब महान मुक्केबाज मोहम्मद अली के नाम से जाना जाएगा अमेरिका का यह इंटरनेशनल एयरपोर्ट

मोहम्मद अली का जन्म 17 जनवरी 1942 को लुईसविले केन्टली सयुक्त राज्य में हुआ। वो अमेरिका के पेशेवर मुक्केबाज के अलावा तीन बार हेवीवेट चैम्पियन भी रहे। उन्हें दुनिया का सबसे बड़ा हेवीवट मुक्केबाज भी कहा जाता था। इसके द्वारा उन्हें बीबीसी से स्पोट्स पर्सनलिटी ऑफ द सेंचुरी और स्पोट्स इलस्ट्रेटेड द्वारा स्पोट्समेम ऑफ द सेंचुरी के खिताब से नव़ाजा जा चुका हैं।

अली इकलौते ऐसे हेवीवेट चेम्पियन थे जिन्होने तीन बार लेनियल चैम्पियन जीते थे। यह खिलाब उन्होनें 1964, 1974, 1978 में जीते थे। उन्हें कई फाईटर की वजह से महानतम मुक्केबाज माना जाता है जिसमें फाइट ऑफ द सेंचुरी, सुपर फाइट 2, थ्रिला इन मनीला, जो फ्रेजियर के खिला’फ थी और रबंन इन द जंगल बनाव जार्ज फोरमैन आदि बॉक्सिंग मैंचो थे। अली ने 1964 में इस्लाम कुबूल किया और उन्होनें अपना नाम बदलकर दास से अली कर लिया। उन्होने 1981 में मुक्केबाजी से संयास ले लिया।

ऐसे बने मोहम्मद अली बॉक्सर

मोहम्मद अली रिंग में लगभग सबके छक्के छुड़ा देते थे। उनके पंच तितली की तरह वि’रोधी’यों पर रिंग में बरसते थे। वो एक ही पंच में विरोधीयों को चित्त कर देता था। वो मोहम्मद अली था, जो दुनिया का सबसे महानतम बॉक्सर कहलाया। उनके बचपन का नाम कैसियस क्ले थे। वो अपनी किताब में लिखते है कि उन्हें अपने पिता ने एक साईकिल गिफ्ट की लेकिन वो एक दिन चोरी हो गई। अली ने इसकी सुचना पुलिस को दी और कहा कि इसकी सजा वो उस चोर को देगे। पुलिसवाले ने कहा कि अगर तुम्हे उस चोर को सजा देना है तो पहले बॉक्सिस सीखो। बस यही से अली की बॉक्सिंग केरियर की शुरुआत हुई। उन्हें इसे ही जुनुन बना लिया।

अली बताते है उन्हें हवाईजहाज में उड़ने से डर लगता था। वो अक्सर पैराशुट पहनकर फ्लाईट में बैठा करते थे। अच्छे अच्छे के रिंग में छक्के छुड़ाने वाले हवाईजहाज में बैठने से डरते है उन्होनें इसका खुलासा 1960 में किया जब रोम ओलंपिक होने वाला था। वो रोम इसी तरह पहुँचे फिर उन्होनें वहाँ पहुँचकर तहलका मचा दिया। उन्होनें रोम में लाइट लेट कैटेगरी में गोल्ड मेडल जीता और फिर इसके बाद उनका अमेरिका में जोरदार स्वागत हुआ।

बता दें, अली को न’स्ल’भेदी मानसीकता का सामना करना पड़ा इसकी वजह ये उन्होनें इस्लाम कुबूल किया और वो कैसियस क्ले से मोहम्मद अली बने। इस्लाम कुबूल करने के बाद ही अली तीन बार हेवीवेट चैम्पियन बने और इंपासिबल इज नंथिग जैसी कई यादगार फाईट दुनिया को दी। आज उनके जन्मदिन के मौके पर उनके सम्मान में अमेरिका ने एक एयरपोर्ट का नाम बदलकर मोहम्मद अली रख गया है। बता दे इस एयरपोर्ट का नाम Louisville Intenatinal Airport जो केन्टूककी में स्थित है उसका नाम अब बदलकर मोहम्मद अली अन्तराष्ट्रीय हवाईअड्डा है।

सभार World News Hindi