देश

छः वर्षों तक कोई भी नहीं लड़ पाएंगे अब्दुल्लाह आज़म ख़ान, जानें पूरा मामला?

नई दिल्ली: समाजवादी पार्टी के सांसद आजम खान के बेटे अब्दुल्लाह आजम खान छह साल तक कोई चुनाव नहीं लड़ पाएंगे। उत्तर प्रदेश विधानसभा सचिवालय ने भारत के राष्ट्रपति को अब्दुल्लाह को उनके भ्रष्ट आचरण के कारण कोई भी चुनाव लड़ने से रोकने के लिए पत्र लिखा है। मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक़, यूपी विधानसभा सचिवालय ने राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद को पत्र लिखकर सिफारिश की थी कि अब्दुल्ला आज़म खान को जन प्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 की धारा 8-ए के तहत चुनाव लड़ने से रोक दिया जाना चाहिए, क्योंकि उन्हें भ्रष्ट आचरण का दोषी ठहराया गया था।

विधानसभा सचिवालय द्वारा भेजे गए पत्र के आधार पर, राष्ट्रपति को भारत निर्वाचन आयोग की सहमति प्राप्त होगी और फिर उन्हें किसी भी चुनाव लड़ने से रोकने का आदेश जारी किया जाएगा। इस पत्र में हवाला दिया गया है कि इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने उत्तर प्रदेश के रामपुर जिले में स्वार विधानसभा क्षेत्र से अब्दुल्ला आज़म खान का चुनाव रद्द कर दिया था, क्योंकि उनकी जन्मतिथि से संबंधित तथ्यों को गलत तरीके से पेश किया गया था।

इससे पहले दिसंबर 2019 में, इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने उत्तर प्रदेश विधानसभा के लिए अब्दुल्ला आज़म का चुनाव रद्द कर दिया था। 2017 के विधानसभा चुनावों के दौरान उनकी उम्र के बारे में फर्जी दस्तावेज तैयार करने के लिए उनका चुनाव अलग रखा गया था। अदालत ने फैसले में कहा कि अब्दुल्ला 25 साल से कम उम्र के थे जब 2017 में चुनाव हुए और उन्होंने चुनाव लड़ने के लिए फर्जी दस्तावेजों का इस्तेमाल किया था। चुनाव आयोग के नियमों के अनुसार, किसी भी रूप में चुनाव लड़ने के लिए उम्मीदवार की न्यूनतम आयु 25 वर्ष होनी चाहिए।

इस साल 17 जनवरी को, सुप्रीम कोर्ट ने अब्दुल्ला आज़म द्वारा दायर एक याचिका पर एक नोटिस जारी किया था, लेकिन अब्दुल्ला को किसी भी सख्त कदम से बचाने के लिए इलाहाबाद उच्च न्यायालय के आदेश या किसी अन्य आदेश पर रोक लगाने से इनकार कर दिया।