देश

नई पीढ़ी का ईमान बचाने के लिए स्कूल के साथ मकतब भी ज़रूरी: मौलाना महमूद मदनी

नई दिल्ली: जामा मस्जिद मदरसा इस्लामिया अमरोहा में आज जमीयत उलेमा-ए-उत्तर प्रदेश की चुनावी सभा (मजलिसे मुन्तज़िमा) की अध्यक्षता मौलाना अब्दुर्रब आज़मी ने की।इस इजलास में जमीअत के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना महमूद मदनी आब्जर्वर के तौर पर शरीक हुए. मौलाना कलीमुल्लाह क़ासमी ने पिछली कार्यवाही पढ़कर सुनाई जिसका सभी सदस्यों ने समर्थन किया। उत्तरप्रदेश के महासचिव मौलाना मोहम्मद मदनी ने सेक्रेटरी रिपोर्ट पेश की।

चुनाव प्रक्रिया की शुरुआत करते हुए मौलाना मुफ्ती सैयद मोहम्मद अफ्फान मंसूरपुरी, अध्यक्ष, धार्मिक शिक्षा बोर्ड, जमीयत उलेमा-ए-यूपी, ने प्रसिद्ध इस्लामिक स्कॉलर मौलाना अब्दुर्रब आज़मी को अध्यक्ष पद के लिए नामित किया, जिसे सर्वसम्मति से मंजूरी दी गई। प्रोफेसर नोमान शाहजहानपुरी, मुफ्ती बिन्यामीन मुजफ्फरनगर और मौलाना अमीनुल हक ओसामा कानपुर उपाध्यक्ष और सैयद मोहम्मद हसीन हाशमी खाज़िन चुने गए।

चुनाव के बाद जमीयत उलेमा-ए-हिंद के अध्यक्ष हजरत मौलाना महमूद मदनी ने अपने मुख्य भाषण में कहा कि संगठन किसी भी क़ौम के सम्मानजनक जीवन का प्रतीक है। उन्होंने कहा, ” मुसलमानों को कई चुनौतियों का सामना है, लेकिन हमें निराश और क्रोधित होने की आवश्यकता नहीं है,मौलाना मदनी ने नई पीढ़ी की शिक्षा पर विशेष ध्यान देने की अपील की। ​​उन्होंने नई नस्ल के ईमान को बचाने के लिए धार्मिक शिक्षा का आह्वान किया और कहा कि हमारे बच्चे स्कूल के साथ-साथ मकतब भी जाएं। इससे नई पीढ़ी मजबूत होगी और वे ईमान की सुरक्षा के बारे में जागरूकता हासिल करेंगे।

जमीयत उलेमा-ए-हिंद के महासचिव मौलाना हकीमुद्दीन कासमी ने अपने संबोधन में संघठन के चुआनों के सुचारू संचालन की सराहना की और मौजूदा स्थिति में मस्जिदों की सुरक्षा के लिए दूरगामी उपायों का आह्वान किया।उन्होंने जमीयत उलेमा-ए-हिंद के सर्कुलर की ओर सदस्यों ध्यान आकर्षित किया। इस अवसर पर जमीयत उलेमा-ए-हिंद की कार्यकारी समिति के सदस्य मौलाना कारी शौकत अली ने भी सभा को संबोधित किया और मौलाना मुफ्ती अब्दुल रहमान की प्रार्थना पर सभा समाप्त हुई। प्रोफेसर नोमान शाह जहानपुरी ने सभा का संचालन किया।