देश

मंगोलपुरी मुद्दे पर मौलाना महमूद मदनी का दिल्ली पुलिस आयुक्त को खत, ‘असमाजिक तत्वों पर लगाएं प्रतिबंध’

नई दिल्लीः मंगोलपुरी दिल्ली  में कानून और व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए, जमीयत उलेमा-ए-हिंद के एक प्रतिनिधिमंडल ने आज दिल्ली पुलिस मुख्यालय में दिल्ली पुलिस के संयुक्त आयुक्त श्री आलोक कुमार से मुलाक़ात की  और जमीयत उलेमा-ए-हिंद के महासचिव मौलाना महमूद मदनी की तरफ से लिखा गया पत्र सौंपा। मौलाना महमूद मदनी ने दिल्ली पुलिस आयुक्त और संयुक्त आयुक्त को एक पत्र लिखा है जिसमें उन्होंने संप्रदायिक तत्वों के माध्यम से मंगोल पुरी में कानून-व्यवस्था को बाधित करने के प्रयास पर चिंता व्यक्त की है और प्रशासन का ध्यान आकर्षित किया है। उन्होंने कहा कि ऐसे तत्वों पर प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए और क्षेत्र में शांति और व्यवस्था बहाल की जानी चाहिए।

जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने हमेशा सांप्रदायिक सद्भाव और दोनों पक्षों के बीच अच्छे और सौहार्दपूर्ण वातावरण के लिए प्रयास किया है। मंगोलपुरी में रिंकू  शर्मा की हत्या के बाद, इसे सांप्रदायिक रंग देने की लगातार कोशिश हो रही है। हालांकि, पुलिस प्रशासन  इसको दो लोगों के बीच एक तिजारती विवाद करार दिया है। मंगोलपुरी में बाहर से कुछ तत्वों के बारे में भी जमीअत के प्रतिनिधिमंडल  ने  सवाल उठाया जो  मुस्लिम अल्पसंख्यक को धमकाते हैं और उन को ख़त्म करने और मार भागने की धमकी देते हैं   मंगोलपुरी के जिम्मेदार मुसलमानों के एक समूह की  हाल ही में जमीयत मुख्यालय पर मौलाना महमूद मदनी से मुलाकात की थी।

जमीयत तब से स्थिति पर नजर बनाए हुए है। इसे देखते हुए जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने आज दिल्ली पुलिस आयुक्त और संयुक्त आयुक्त का ध्यान आकर्षित करने के लिए मुलाकात की। जमीयत प्रतिनिधिमंडल के साथ इस  बैठक में, श्री आलोक कुमार ने कहा कि दिल्ली पुलिस इस मामले पर कड़ी नजर रखे हुए है और आवश्यक कदम उठाए गए हैं।

जमीयत उलेमा-ए-हिंद के प्रतिनिधिमंडल में मौलाना हकीमुद्दीन कासमी, सचिव, जमीयत उलेमा-ए-हिंद, मौलाना दाउद अमिनी, उपाध्यक्ष, जमीयत उलेमा-ए-दिल्ली, मौलाना कारी अब्दुल समी,जमीयत उलेमा-ए-दिल्ली , मौलाना जियाउल्लाह कासमी, वरिष्ठ ऑर्गनिज़र जमीअत उलमा-ए-हिन्द शामिल थे.