कृष्णकांत का लेख: बड़े नेता ऐसी भाषा बोलते हैं, फिर कोई बिगड़ैल शहजादा गाड़ी लेकर निकलता है और कुचल भी देता है।’

सिर्फ 5 साल नहीं, इनके जीवन भर की उपलब्धि यही है। ये माननीय देश के सबसे बड़े सूबे के सीएम हैं और कथित संत भी हैं लेकिन इनकी भाषा देखिए कैसी निम्न कोटि की और कितनी हिंसक है। किस कानून और संविधान में सीएम को ये अधिकार है कि वह किसी को कुचल देने की मुनादी करे? असल में सीएम को इतना भी अधिकार नहीं है कि वह किसी को थप्पड़ भी मार सके। सजा देने का अधिकार सिर्फ कोर्ट और कानून को है।

ये ऐसे सीएम हैं जो ठोंक दो, ढहा दो, मार दिए जाओगे, काट दिए जाओगे, कुचल दिए जाओगे, जैसी भाषा लगातार बोलते हैं। सर्वोच्च पद पर बैठकर आपसे खुद कानून और संविधान की मर्यादा का पालन नहीं होता। इसी का नतीजा है कि पुलिस आधी रात को कमरे में घुसकर आपकी ही पार्टी के छुटभैया नेता को पीट पीटकर मार देती है और केस दर्ज होने के लिए पूरे देश को हल्ला मचाना पड़ता है।

बड़े नेता ऐसी भाषा बोलते हैं, फिर कोई बिगड़ैल शहजादा गाड़ी लेकर निकलता है और कुचल भी देता है। और ये हिंदुस्तान में रहने के लिए देशभक्ति का परीक्षण आप कैसे करेंगे? कुछ साल पहले तक नागपुर मुख्यालय पर तिरंगा न फहराने वाला आरएसएस सबसे बड़ा देशभक्त हो गया और देश का आम नागरिक देशद्रोही हो गया?

कभी कहते हैं कि कागज देखेंगे, कभी कहते हैं कि देशभक्ति चेक करेंगे। हे हिंसक ऋषिवर! यह देश जितना आपका है उतना ही यहां रहने वाले हर व्यक्ति का है। आपको किसी की देशभक्ति मापने और प्रमाणपत्र देने का कोई अधिकार नहीं है।

कहीं कोई अपराध हो तो उसपर कार्रवाई उचित है, लेकिन जिस देश मे क्रिकेट पर सट्टा लगाने को वैध कर दिया है, जिस देश मे लोग टीम इलेवन और जाने क्या क्या तमाशा करके सट्टा लगाते हैं, वहां विरोधी टीम की जीत पर खुशी देशद्रोह कैसे हो गई? हो सकता है कि सोशल मीडिया पर वी वोन लिखने वाला सट्टा जीत गया हो!

अगर विरोधी टीम की तारीफ इतनी गंभीर बात है तो फिर पाकिस्तान के साथ क्रिकेट खेलना कैसे देशद्रोह नहीं है? भारतीय खिलाड़ियों का पाकिस्तानी खिलाड़ियों से हाथ मिलाना कैसे देशद्रोह नहीं है? पाकिस्तान से खेलने का फैसला करना कैसे देशद्रोह नहीं है? जिसने ये फैसला लिया होगा, क्या उसके घर पर बुलडोजर चलवाएंगे?

जिस भाजपा पर सोते-जागते दिनरात पाकिस्तान का खतरा मंडराता रहता है, उसने पाकिस्तान के साथ क्रिकेट खेलने का फैसला क्यों किया? क्या चुनाव के पहले ये कुचक्र इसीलिए रचा गया कि क्रिकेट के दिन किसी की शादी बारात में पटाखा फूटे और आप उसपर देशद्रोह लगाकर बता सकें कि आप कितने देशभक्त हैं! ये सवाल पूछने वाले को भी देशद्रोही कह दिया जाता है, लेकिन बीजेपी वाले जरा ये बताएं कि पिछले सात साल में इन्होंने पाकिस्तान और चीन का क्या बिगाड़ा?

चीन 50 किलोमीटर तक अंदर घुस आया और कश्मीर में पिछले तीन दशक के सबसे बड़ा पलायन हुआ है। सबसे ज्यादा आम नागरिक और मारे गए हैं। झूठ, नफरत, हिंसा, उन्माद और घटिया राजनीति ही आपकी चरम उपलब्धि है। जिस दिन जनता ये समझ गई, आपकी दुकान सदा के लिए बंद हो जाएगी। आप अपनी वाणी और आचरण में थोड़ी मर्यादा रखते तो यूपी में जंगलराज कायम नहीं होता!

(लेखक पत्रकार एंव कथाकार हैं, ये उनके निजी विचार हैं)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *