देश

मुहर्रम के मौके पर जमीअत उलमा-ए-हिंद ने अजमेर शरीफ में लगाया शिविर, मदनी बोले ‘ख्वाजा से प्रेरिता है जमीअत की तहरीक’

अजमेर/नई दिल्ली: जमीअत उलमा-ए-हिंद के तत्वाधान में एक बार फिर अजमेर शरीफ में तीर्थयात्रियों के लिए चिकित्सा शिविर का आयोजन किया गया है। जमीअत उलमा-ए-हिंद के अध्यक्ष मौलाना महमूद असद मदनी के निर्देश पर इस बार उनकी जिम्मेदारी जमीयत उलमा-ए-मेवात के महासचिव मुफ्ती मुहम्मद सलीम  निभा रहे हैं.

बुधवार को चिकित्सा शिविर का उद्घाटन जमीअत उलमा-ए-हिंद के महासचिव मौलाना हकीमुद्दीन कासमी ने किया।इस बार मेवात से स्काउट प्रशिक्षित युवाओं की सेवा भी प्राप्त हुई है,  इस के अलावा कई डॉक्टर्स और पैरामेडिक्स अपनी सेवा देंगे। मुहर्रम के अवसर पर चिकित्सा शिविर में आने वाले तीर्थयात्रियों को चिकित्सा सेवा प्रदान की जाएगी। पिछले पांच वर्षों में जमीअत उलमा-ए-हिंद ने तीर्थयात्रियों की अद्वितीय सेवा की है।  इस बीच 51697 बीमार  यात्रियों को मुफ्त चिकित्सा सुविधा प्रदान की गई, जबकि अधिक बीमारों को जमीयत एम्बुलेंस दुआरा जिला हॉस्पिटल और मृतकों को उनके शहर तक पहुँचाया गया.

आज का उद्घाटन समारोह में जमीयत उलेमा बनास कांठा  के महासचिव अतीक-उर-रहमान कुरैशी, जमीयत उलेमा सोहना के मौलाना मुहम्मद दिलशाद साहिब कासमी, मौलाना अबुल हसन पालनपुरी, मौलाना हसन मुहम्मद हरवारी, मौलाना अजमल, डॉ मुहम्मद अकरम, डॉ. मुहम्मद शरीफ, डॉ. मुहम्मद कैफ,  डॉ तारिक अनवर आदि उपस्थित थे।