A++ ग्रेड हासिल कर जामिया ने कैंपस में हुई पुलिस बर्बरता जवाब दे दिया, जामिया न डरा है, डरेगा: नज्मा अख़्तर

0
305

जामिया मिल्लिया इस्लामिया की कुलपति प्रो नजमा अख्तर ने आज विश्वविद्यालय को राष्ट्रीय मूल्यांकन और प्रत्यायन परिषद (एनएएसी) द्वारा दिए गए ए ++ ग्रेड के विवरण साझा करने के लिए एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया। कड़ी मूल्यांकन पद्धति का पालन करते अनुसंधान, बुनियादी ढांचे, लर्निंगसंसाधन, मूल्यांकन, नवाचार एवं प्रशासन सहित विभिन्न मापदंडों के आधार पर नैक द्वारा किसी संस्थान को दिया जाने वाला यह उच्चतम और सबसे प्रतिष्ठित ग्रेड है।

प्रो. अख्तर ने कहा कि यह माइलस्टोन एक बड़ा बदलाव लाएगा क्योंकि यह विश्वविद्यालय के लिए नए रास्ते खोलेगा। जब हम परियोजनाओं के लिए आवेदन करते हैं, तो यह एक सकारात्मक संदेश देगा। जब आप किसी फंडिंग एजेंसी से फंड मांगते हैं, तो इससे मदद मिलेगी। विश्वविद्यालय के प्रति विश्व का विश्वास बढ़ा है।

उन्होंने कहा कि यह एक महत्वपूर्ण संदेश भी देता है कि यदि आप सही दिशा में कड़ी मेहनत करते हैं तो आप सर्वश्रेष्ठ हासिल कर सकते हैं। हम इस तरह के परिणाम की उम्मीद कर रहे थे क्योंकि हम सभी ने महामारी और अन्य अव्यवस्था जैसी विभिन्न चुनौतियों का सामना करने के बावजूद इसे हासिल करने के लिए एक टीम के रूप में दिन-रात काम किया। कुलपति ने कहा, “यह इस विश्वास को भी मजबूत करता है कि एक अल्पसंख्यक संस्थान भी सर्वोच्च रैंकिंग हासिल कर सकता है, अगर वह लक्ष्य को ध्यान में रखकर कड़ी मेहनत करे।”

मूल्यांकन प्रक्रिया के बारे में विस्तार से बताते हुए कुलपति ने कहा कि हमने विश्वविद्यालय की अकादमिक प्रगति को दिखाने के लिए हमने जो दावा किया उसके साक्ष्य के रूप में सभी दस्तावेज जमा किए और फिर नैक की सात सदस्यीय सहकर्मी टीम ने उन्हेंसत्यापित करने के लिए तीन दिनों (6-8 दिसंबर, 2021) के लिए विश्वविद्यालय का दौरा किया।

कोविड-19 की स्थिति के दौरान भी, हम यह विश्वास रखने में कामयाब रहे कि संस्था छात्रों के साथ है। हमने पहले अपने शिक्षकों को विभिन्न संकाय विकास कार्यक्रमों (FDP) के माध्यम से ऑनलाइन शिक्षण के लिए प्रशिक्षित किया और राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय वेबिनार आयोजित करते रहे ताकि लोग व्यस्त रहें। हमने सुनिश्चित किया कि महामारी के बावजूद छात्रों के लिए प्लेसमेंट, परीक्षा और सब कुछ सुचारू रूप से चले।

प्रो. अख्तर ने विश्वविद्यालय के सभी शिक्षण सदस्यों और अन्य कर्मचारियों से अपील की कि वे अगले नैक चक्र के लिए अगले पांच वर्षों तक इस ग्रेड को बनाए रखने के लिए कड़ी मेहनत करते रहें और विश्वविद्यालय को नई ऊंचाई पर ले जाएं।

कुलपति ने आगे कहा कि वर्तमान आवश्यकता के आधार पर विश्वविद्यालय ने हाल ही में 4 नए विभाग खोले हैं और यूजीसी द्वारा 28 नए शिक्षण पद स्वीकृत किए गए हैं। भविष्य में हम कई नए पाठ्यक्रम शुरू करने और नई शिक्षा नीति (एनईपी) की आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए और हमारे छात्रों के रोजगार की संभावना को बढ़ाने के लिए उद्योग के लोगों के परामर्श से हमारे पाठ्यक्रम को विकसित करने की योजना बना रहे हैं।

अंत में कुलपति ने कहा कि विश्वविद्यालय नेतृत्व की भूमिकाओं में महिलाओं को बढ़ावा देता है और यह देश का पहला विश्वविद्यालय है जिसमें कई महिला डीन एवं विभागाध्यक्ष के अलावा एक ही समय में कुलाधिपति, कुलपति, सम-कुलपति और वित्त अधिकारी के रूप में महिलाएं हैं। उन्होंने कहा कि “हम आने वाले समय में छात्रों के बीच जेंडर अनुपात में और सुधार करने की योजना बना रहे हैं”