जामिया के 16 शोधकर्ता स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के टाॅप 2% वैज्ञानिकों की वैश्विक सूची में शामिल

0
387

जामिया मिल्लिया इस्लामिया (जेएमआई) के लिए यह बहुत गर्व की बात है कि स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी, यूएसए ने संस्थान के 16 शोधकर्ताओं को दुनिया के शीर्ष 2% वैज्ञानिकों की प्रतिष्ठित वैश्विक सूची में शामिल किया है। यह सूची कुछ दिनों पूर्व स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय के एमिनेंट प्रोफेसर, प्रो. जॉन इओनिडिस के नेतृत्व में विशेषज्ञों की एक टीम द्वारा तैयार की गई तथा एल्सेवियर बीवी, विश्वप्रसिद्ध विश्वविद्यालय द्वारा प्रकाशित की गई थी।

जामिया की कुलपति प्रो. नजमा अख्तर ने कहा, “यह जामिया में किए जा रहे उच्च स्तरीय अनुसंधान की स्वीकृति है। यह मान्यता विश्वविद्यालय को उत्कृष्टता के वैश्विक मानचित्र पर रखती है और संस्थान के लिए बहुत गर्व की बात है।”

भारत से कुल 3352 शोधकर्ताओं ने इस सूची में स्थान पाया जो वैश्विक शोध मंच पर देश के बहुमूल्य प्रभाव का प्रतिनिधित्व करता है। स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा दो अलग-अलग सूचियां जारी की गईं। पहली प्रतिष्ठित सूची करियर-लॉन्ग डेटा पर आधारित है जिसमें 08 जामिया प्रोफेसरों ने अपनी जगह बनाई। वर्ष 2020 के प्रदर्शन की दूसरी सूची में जामिया के 16 वैज्ञानिक हैं।

जामिया से प्रोफेसर इमरान अली, प्रोफेसर अतीकुर रहमान, प्रोफेसर अंजन ए. सेन, प्रोफसर हसीब अहसान, प्रोफेसर सुशांत प्रोफेसर घोष, प्रोफेसर एस. अहमद, प्रो. तोकीर अहमद और डॉ. मोहम्मद. इम्तैयाज को दोनों प्रतिष्ठित सूचियों में शामिल किया गया है, जबकि 2020 में शीर्ष 2% वैज्ञानिकों की सूची में प्रो. आबिद हलीम, प्रो. रफीक अहमद, प्रो. तबरेज़ आलम खान, प्रोफेसर मो. जावेद, प्रोफेसर अरशद नूर सिद्दीकी, प्रो. मुशीर अहमद, प्रो. फैजान अहमद और प्रो. तारिकुल इस्लाम को शामिल किया गया है।

100,000 से अधिक शीर्ष वैज्ञानिकों का सार्वजनिक रूप से उपलब्ध डेटाबेस एक समग्र संकेतक में साइटेशंस, एच-इंडेक्स और साइटेशंस पर मानकीकृत जानकारी प्रदान करता है।

वैज्ञानिकों को 22 वैज्ञानिक क्षेत्रों और 176 उप-क्षेत्रों में वर्गीकृत किया गया है। करियर-लॉन्ग डेटा को 2020 के अंत तक अपडेट किया जाता है। इसमें चयन सी-स्कोर द्वारा शीर्ष 100,000 या 2% या उससे अधिक के प्रतिशत रैंक पर आधारित है।

Leave a Reply