देश

मुजफ्फरनगर में किसानो की मांगो को लेकर भाकियू की हुंकार के बीच हुई महापंचायत

मुजफ्फरनगर: मुजफ्फरनगर में भारतीय किसान यूनियन ने गन्ने के बकाया के भुगतान तथा गन्ने का खरीद मूल्य 450 रुपये प्रति कुंतल किए जाने की मांग को लेकर आज अपनी ताकत का प्रदर्शन किया। पहले शिवचैक के बजाय आज राजकीय इंटर कॉलेज मैदान पर हुई सभा में बडी संख्या में जिले भर से आए किसानों के बीच भाकियू अध्यक्ष चै नरेश टिकैत ने कहा कि चीनी मिल मालिक, प्रशासन और सरकार किसानों के सब्र का इम्तहान ना लें। उन्होंने कहा कि किसानों को तमाम तरह परेशान किया जा रहा है और उसके बकाया भुगतान के मुद्दे पर प्रशासन और सरकार चुप बैठी है।

करीब दस दिन से चल रहे धरने के बाद आज बडी संख्या में किसान जीआईसी मैदान में किसानों की महापंचायत में जुटे। इस मौके पर उनकी मुख्य मांग गन्ना मूल्य साढ़े चार सौ रुपये प्रति कुंटल किए जाने, बकाया भुगतान करने, देरी से भुगतान पर ब्याज देने की मांगें शामिल रहीं। इन मांगों को लेकर ज्ञापन भी दिया गया। इसके अलावा बिजली और प्रदूषण विभाग द्वारा किसानों के उत्पीडन सहित विभिन्न मांगों को लेकर भी भाकियू नेताओं ने गुस्सा जताया। भाकियू अध्यक्ष चैधरी नरेश टिकैत ने इस मौके पर कहा कि किसान दस दिन से अधिक समय से धरने पर बैठे हैं, लेकिन प्रशासन और चीनी मिल मालिकों के कानों पर जूं नहीं रेंग रही है। किसान का इस समय काम का समय है और उसे अपनी मांगों को लेकर धरने और आदोंलन करने पड रहे हैं। उन्होंने कहा कि चीनी मिल प्रबंधक, प्रशासन और सरकार तीनों किसानों के सब्र का इम्तहान ले रही हैं। अब यह और नहीं चलेगा। उन्होंने कहा कि पराली आदि को लेकर जिस तरह किसानों को बेइज्जत किया जा रह है, यह बर्दाश्त से बाहर है।

भाकियू प्रवक्ता राकेश टिकैत ने बताया कि उन्होंने मुख्यमंत्री से मुलाकात में उनके समक्ष गन्ना बकाया भुगतान दिलाने की मांग रखी थी। इस पर मुख्यमंत्री ने अक्तूबर माह के अंत तक चीनी मिल चलने से पूर्व पूरा बकाया गन्ना भुगतान दिलाने का वादा किया था। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन और शुगर मिल के सभी जीएम को छह नवम्बर तक बकाया भुगतान करने के लिए कहा गया था, लेकिन अभी तक किसानों का गन्ना बकाया भुगतान नहीं हुआ है। प्रदेश अध्यक्ष राजवीर सिंह जादौन ने कहा है कि किसान गन्ना गूल्य को लेकर पिछले कई साल से परेशान हैं। चार साल में एक पैसा भी नहीं बढ़ाया गया है। एक साल बाद भी पुराने बकाया का भुगतान नहीं हुआ। मिलों पर अभी भी किसानों का करोड़ों रुपये बकाया है। भाकियू मंडल अध्यक्ष राजू अहलावत ने कहा कि चार साल से किसानों को गन्ना मूल्य का एक पैसा अधिक नहीं मिल रहा है। यहां तक कि अभी करोड़ों रुपया बकाया है। ऊपर से बिजली बिल के नाम पर किसानों का उत्पीड़न किया जा रहा है। अब किसान इसे बर्दाश्त नहीं करेंगे। आज महापंचायत में बडी संख्या में महिलाएं भी हरी चुनरी ओढे नजर आईं।

आज सुबह से ही बड़ी संख्या में किसान महापंचायत के लिए पहुंचने लगे। इसके चलते महावीर चैक और आसपास के इलाकों में जाम की स्थिति पैदा हो गई। इसके अलावा सिवाया टोल प्लाजा पर किसानों की भीड़ लगी रही। ट्रैक्टर-ट्रॉलियों से किसान मुजफ्फरनगर की ओर बढे तो तमाम स्थानों पर जाम की स्थिति से लोग जूझते रहे। धर्मेन्द्र मलिक तथा अन्य लोगों की निगरानी में रैली स्थल पर ही भोजन की व्यवस्था भी रही। पार्किंग भी अंदर जीआईसी मैदान में ही रही। व्यवस्था की निगरानी में एसपी सिटी सतपाल अंतिल और सीओ सिटी राजेश द्विवेदी भी सिविल लाइन इंस्पेक्टर डीके त्यागी व फोर्स के अन्य पुलिस अधिकारी भी जीआईसी मैदान में दिखाई दिए।