फ़लस्तीन

हमास लीडर ख़लील अल हया बोले ‘हमारे लिए यरुशलम एक लाल रेखा है।’

गाजाः गाजा में सत्तारूढ़ इस्लामी संगठन हमास ने गुरुवार को होने वाले यरुशलम फ्लैग मार्च को लेकर इजरायल को फिलिस्तीनी क्षेत्रों में तनाव फिर से नहीं बढ़ाने की चेतावनी दी है हालांकि इस मार्च को सुरक्षा कारणों से रद्द किया जा चुका है। गाजा में हमास के एक वरिष्ठ नेता खलील अल-हया ने सोमवार को संवाददाताओं से कहा, “हमास यरूशलेम में पुराने शहर और अल-अक्सा मस्जिद के रास्ते निकाले जाने वाले फ्लैग मार्च के खिलाफ कब्जा करने वाले (इजरायल), मध्यस्थों और पूरी दुनिया को चेतावनी देता है। हमास का संदेश स्पष्ट है, हम नहीं चाहते कि गुरुवार की घटना 10 मई के बाद की तरह हो, जब इजरायल और हमास के बीच 11 दिन तक भयंकर लड़ाई चली थी।”

रमजान के पवित्र माह के दौरान पूर्वी यरुशलम में 10 मई को इजरायली पुलिस और फिलीस्तीनी उपासकों के बीच झड़पों के बाद इजरायल और हमास के नेतृत्व वाले समूहों के बीच लड़ाई छिड़ गयी थी। यरुशलम के पास स्थित शेख जर्राह में फिलीस्तीनी परिवारों को उनके घरों से बेदखल करने का एक इजरायली अदालत का फैसला भी झड़पों के पीछे था। अल-हया ने कहा, “हमारे लिए यरुशलम एक लाल रेखा है। हम युद्धों के शौकीन नहीं हैं, लेकिन हमारा प्रतिरोध पवित्र शहर की रक्षा के लिए है।”

इस बीच, गाजा में संयुक्त सैन्य अभियानों के चैंबर, जिसमें हमास सहित फिलीस्तीनी सशस्त्र शाखा शामिल हैं, ने भी इजरायल को पूर्वी यरुशलम में तनाव नहीं बढ़ाने की चेतावनी दी है। चैंबर ने एक बयान में कहा, “हम पवित्र शहर (यरुशलम) में दुश्मन (इजरायल) के व्यवहार की बारीकी से निगरानी कर रहे हैं, और अगर दुश्मन 11 मई से पहले की स्थिति को वापस लाने का फैसला करता है, तो हम भी पीछे नहीं हटेंगे।”

इससे पहले दिन में, इजरायली मीडिया ने बताया कि इजरायली पुलिस ने पुराने शहर के दमिश्क गेट के रास्ते मार्च निकालने के आयोजकों के अनुरोध को खारिज कर दिया है जिसके कारएा गुरुवार को होने वाले यरुशलम फ्लैग मार्च को रद्द कर दिया गया है।