गोल्डन गर्ल निकहत ज़रीन की दो टूक, “हिंदू मुस्लिम नहीं मैं भारत का प्रतिनिधित्व करना चाहती हूं”

0
395

नई दिल्लीः मौजूदा विश्व मुक्केबाजी चैंपियन निकहत ज़रीन ने आज कहा कि वह 2024 के पेरिस ओलंपिक में भारत के लिए स्वर्ण पदक जीतने पर ध्यान केंद्रित कर रही हैं और इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वह किस समुदाय का प्रतिनिधित्व करती हैं।

निकहत ने कहा, ‘‘एक एथलीट के रूप में, मैं यहां भारत का प्रतिनिधित्व करने के लिए हूं। मेरे लिए हिंदू-मुसलमान मायने नहीं रखता। मैं किसी समुदाय की नहीं, बल्कि अपने देश का प्रतिनिधित्व कर रहा हूं। मैं कड़ी मेहनत करना जारी रखूंगी और अपने देश के लिए पदक जीतने का प्रयास करूंगी।’’ निकहत और ओलंपिक कांस्य पदक विजेता लवलीना बोरगोहेन ने शनिवार को बर्मिंघम में 28 जुलाई से शुरू होने वाले आगामी राष्ट्रमंडल खेलों के लिए भारतीय टीम में जगह बनाई।

26 साल की निकहत ने कहा, ‘‘मैं राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक वापस लाने की पूरी कोशिश करूंगी। मैं एक हफ्ते के आराम पर हूं। हमें बताया गया है कि भारतीय टीम जुलाई में ट्रेनिंग के लिए आयरलैंड जा सकती है।’’ उन्होंने कहा कि उन्हें अब तक आने के लिए सामाजिक पूर्वाग्रहों सहित कई बाधाओं को पार करना पड़ा है। निकहत ने माना कि आगे की यात्रा कठिन होगी। ‘‘मेरे विश्व चैंपियन बनने के बाद, लोगों की उम्मीदें दो गुना बढ़ गई हैं।

इसलिए, हर कोई उस पदक की तलाश में होगा, जो निकहत को लाना होगा। मैंने 52 किग्रा वर्ग में स्वर्ण पदक जीता, लेकिन ओलंपिक में हमारे पास 52 किग्रा वर्ग नहीं है। मुझे उसी के अनुसार तैयारी करनी होगी।’’

उनकी यात्रा में मील के पत्थर बहुत प्रेरणादायक हैं। निजामाबाद (अब तेलंगाना) में जन्मी मुक्केबाज ने कहा कि उन्हें वह दिन याद है, जब उनकी मां उन्हें घर लौटते देख रोई थीं और उनके कपड़े पर खून के धब्बे थे। 2009 में, मैंने बॉक्सिंग शुरू की। इससे पहले मैं एथलेटिक्स में थी और मेरे पिता मुझे ट्रेनिंग दे रहे थे। मैंने बॉक्सिंग को छोड़कर हर खेल में लड़कियों को देखा है। मैंने अपने पिता से पूछा कि महिलाएं बॉक्सिंग क्यों नहीं करतीं और उन्होंने मुझे बताया कि लोगों को लगता है कि महिलाएं इतनी मजबूत नहीं हैं कि बॉक्सिंग को अपना सकें। इसने मुझे बॉक्सिंग करने के लिए चुनौती दी। मैं बचपन से ही बहुत जिद्दी थी। मैं सिर्फ लड़कों के साथ खेलती थी।

मैं जिस जगह पली-बढ़ी हूं, वहां के लोग रूढ़िवादी थे। उन्होंने अपनी बेटियों को बाहर नहीं निकलने दिया। मैंने अपने पिता से कहा कि मैं मुक्केबाजी को अपनाऊंगी और लोगों को दिखाऊंगी कि लड़कियां भी मुक्केबाजी में प्रतिस्पर्धा कर सकती हैं। मेरे पिता एक खिलाड़ी थे और बहुत सहायक थे। मुझे याद है कि जब मैंने बॉक्सिंग शुरू की थी, तब मैं स्टेडियम में अकेली लड़की थी। मुझे बहुत बुरी तरह पीटा गया था और मेरी नाक से खून बह रहा था। मुझे देखकर मेरी माँ रोने लगी और कहने लगी कि उसकी चार बेटियाँ हैं और अगर मेरे चेहरे पर चोट या टूटे हुए अंग हैं, तो मेरे लिए एक दूल्हा खोजना मुश्किल होगा। मैंने अपनी ‘अम्मी’ से कहा कि एक बार मुझे पहचान मिलने के बाद, मैच के लिए लोगों की कतार लग जाएगी। अब भी, मुझे प्रस्ताव मिलते हैं, लेकिन मेरा ध्यान केवल पेरिस ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने पर है।’’

विश्व चैंपियन ने कहा कि उनके पिता ने उन्हें केवल देश के लिए पदक जीतने के अपने सपने को पूरा करने पर ध्यान केंद्रित करने की सलाह दी। ‘‘उन्होंने मुझसे कहा कि मेरे विरोधी मेरी जय-जयकार करेंगे और जब मैं पदक जीतूंगी, जो मेरे साथ सेल्फी लेना चाहते हैं और मैं इसे अब होते हुए देखती हूं।’’ उन्होंने कहा कि बचपन में, जब मैं लोगों से मिलने जाती थी, तो मैं उनके परिसर में अमरूद और आम के पेड़ पर चढ़ जाती थी और वे मेरे माता-पिता से कहते थे कि मुझे साथ मत लाओ। अब वही लोग मेरे माता-पिता को फोन करते हैं और पूछते हैं कि मैं कब वापस आ रही हूं। मुझे खुशी है कि मैंने लोगों की मानसिकता बदल दी है।

अब, अन्य बच्चों के माता-पिता भी मेरे पिता को फोन करते हैं और पूछते हैं कि क्या मैं उनके बच्चों को बॉक्सिंग के लिए प्रशिक्षित कर सकती हूं। मेरे पिता उन्हें कहते हैं कि मैं खेल पर ध्यान केंद्रित कर रही हूं, लेकिन उन्हें आश्वासन दिया कि मैं रिटायर होने के बाद एक अकादमी चलाऊंगी। काली टी-शर्ट और काली जींस पहने, निकहत ने अपने प्रबंधक के साथ भारतीय महिला प्रेस कोर में एक विनम्र उपस्थिति दर्ज कराई। उसने अपने श्वसन स्तर, हृदय गति और कसरत को ट्रैक करने के लिए एक स्मार्टवॉच पहनी थी। उसने कहा कि वह मोहम्मद, अली और माइक टायसन के वीडियो देखकर बड़ी हुई है और निकोला एडम्स से प्रेरित हैं।

यह पूछे जाने पर कि भारतीय मुक्केबाजों में कहां कमी है, उन्होंने कहा, ‘‘हमारे भारतीय मुक्केबाज बहुत प्रतिभाशाली हैं। हमारे पास ताकत, गति और शक्ति है। यह सिर्फ इतना है कि एक बार जब आप उस (विश्व) स्तर पर पहुंच जाते हैं, तो मुक्केबाजों को प्रशिक्षण दिया जाना चाहिए। मानसिक दबाव को संभालें। एक बार जब आप बड़े प्लेटफॉर्म पर पहुंच जाते हैं, तो कई एथलीट घबरा जाते हैं और प्रदर्शन करने में सक्षम नहीं होते हैं।’’ यह पूछे जाने पर कि बॉक्सिंग भारत में क्रिकेट की तरह लोकप्रिय क्यों नहीं है, उन्होंने कहा, ‘‘क्रिकेट मैच टेलीकास्ट होते हैं लेकिन हमारे मैच टेलीकास्टनहीं होते हैं। ऐसा होने के बाद चीजें बदल जाएंगी। वह इस बात से सहमत थीं कि खिलाड़ियों के लिए राज्यों और केंद्र सरकार का समर्थन महत्वपूर्ण है, जिनमें से अधिकांश मध्यम वर्ग की पृष्ठभूमि से हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘टॉप्स (टारगेट ओलंपिक पोडियम स्कीम) बहुत अच्छा है। मैं अपना खर्च वहन कर सकती हूं क्योंकि मैं साई योजना में हूं।’’ यह पूछे जाने पर कि क्या वह पेरिस ओलंपिक से पहले फ्रेंच सीखने की योजना बना रही है, निकहत जिसने खुद को खाने का शौकीन बताया, मुस्कुराई और कहा, ‘‘अभी नहीं। मैं केवल ‘बोन एपीटिट’ जानती हूं!’’

सभार आवाज़ द वायस