डॉ. उमर गौतम की बेटी का छलका दर्द, कहा ‘हमारे साथ कोई नहीं, हम बिल्कुल अकेले पड़ गए हैं’

ज़रूर पढ़े

धर्मांतरण के आरोप में गिरफ्तार डॉ. उमर गौतम की बेटी ने एक इंटरव्यू में कहा कि उनका परिवार बिखर गया है। हम अब अकेले ही अपनी-अपनी लड़ाई लड़ रहे हैं, और अपना अधिकांश समय वकीलों के पीछे दौड़ते हुए बिता रहे हैं, कोई भी संगठन हमारे लिए आवाज़ नहीं उठा रहा है।

एक समाचार पोर्टल से बात करते हुए, उमर गौतम की बेटी ने कहा कि मामले में फाईलों में दबा हुआ है, अभी सुनवाई भी शुरू नहीं हुआ है, और कोई उम्मीद भी नहीं है। उन्होंने कहा कि मेरी माँ की हिम्मत टूट रही है। भाई की अवैध गिरफ्तारी ने हमें तोड़ दिया है। हमारा मक़सद अपने निर्दोष पिता भाई को अदालत में निर्दोस साबित कराना है।

डॉ. उमर गौतम पर लगे आरोपों के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा कि वे मनगढ़ंत आरोप हैं. उन्होंने कहा कि पापा धर्म परिवर्तन करने वालों को कानूनी सहायता प्रदान कराते थे, किसी का धर्म परिवर्तन नहीं करते थे, किसी पर दबाव नहीं डालते थे.

उनकी बेटी ने एक सवाल के जवाब में कहा कि इस बात का कोई सबूत नहीं है कि उनके पिता को प्रताड़ित किया गया था या उनके साथ दुर्व्यवहार किया गया था, लेकिन जेल, जेल ही होती गै। मीडिया के व्यवहार पर प्रतिक्रिया देते हुए उन्होंने कहा कि इससे हमारे परिवार की छवि खराब हुई है। जीवन भर के लिए उनकी प्रतिष्ठा को कलंकित किया गया है। मीडिया जज बन गया, जबकि मेरे पिता के ख़िलाफ कोई सबूत नहीं है कि उन्होंने किसी का धर्म परिवर्तन कराया है। सम्मान से बरी होने के बाद भी किसी के माथे पर लगे क्लंक को धोना मुश्किल है।

उन्होंने कहा कि उनके पिता के खिलाफ गुजरात, फतेहपुर, दिल्ली और लखनऊ में चार जगह मामले दर्ज हैं. उन्होंने कहा, ”नहीं, दढियाल या नन्हाल, कोई हमारा नहीं है.” हम अकेले हैं, मेरी माँ और मेरे भाई का ही सहारा है। उन्होंने बताया कि मेरी माँ की तबीयत बिगड़ रही है, मेरे भाई की नौकरी, भविष्य, करियर, मान-सम्मान सब चला गया, कोई  हमारे साथ में नहीं है, संगठन चुप हैं।

ताज़ा खबर

इस तरह की और खबरें

TheReports.In ऐप इंस्टॉल करें

X