देश

डॉ. अय्यूब बोले ‘देश में लव जिहाद जैसा कोई मामला नहीं है, यह सरकार समर्थित संगठनों की संकीर्ण मानसिकता की उपज है’

लखनऊ/बड़हलगंजः उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने कथित लव जिहाद के खिलाफ कानून बनाने का प्रस्ताव विधी विभाग को भेजा है। भाजपा सरकार के इस फैसले के खिलाफ विपक्षी दल मुखर हो गए हैं। बता दें कि हाल ही में मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा था कि मध्यप्रदेश सरकार विधानसभा के अगले सत्र में लव जिहाद की समस्या निपटने के लिये कानून लाएगी। लेकिन योगी सरकार ने तो विधी विभाग को लव जिहाद के खिलाफ कानून बनाने क प्रस्ताव भेज दिया। इस पर पीस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एंव पूर्व विधायक डॉ. अय्यूब सर्जन ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। उन्हों सरकार के इस क़दम को असंवैधानिक और समाज में नफरत फैलाने वाला करार दिया है।

डॉक्टर अय्यूब सर्जन द्वारा जारी किए एक बयान में कहा देश में संकीर्ण मानसिकता द्वारा तथाकथित लव जिहाद के नाम पर झूठे कुप्रचार पर अब भाजपा शासित सरकारें एक विशेष धर्म के लोगों को निशाना बनाने के लिये कानून लाने की तैयारी कर रहीं हैं, जो संविधान और लोकतंत्र के विरुद्ध है। उक्त कानून बनने से एक विशेष धर्म के लोगों विशेषकर मुसलमानों को प्रताड़ित करने का मार्ग प्रशस्त होगा।

डॉक्टर अय्यूब ने कहा कि पीस पार्टी ऐसे किसी भी काले कानून का विरोध करती है। इस समय पर ऐसा कानून बनाना आने वाले दिनों में बंगाल चुनाव और उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव वोटों के ध्रुवीकरण करेगा। डॉक्टर अय्यूब सर्जन ने कहा कि देश और प्रदेश में लव जिहाद जैसा कोई मामला नहीं है, बल्कि यह सरकार समर्थित संगठनों की संकीर्ण मानसिकता की उपज है, ताकि इसके सहारे एक विशेष धर्म के मानने वालों को बदनाम किया जा सके। अगर युवक, युवती व्यस्क है तो देश के संविधान ने उसे उसकी मर्जी के अनुसार शादी करने की इज़ाजत दी हुई है। अगर इसमें युवक मुस्लिम या हिंदू युवती हिंदू या मुस्लिम है तो इसमें किसी को कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए। यह लव जिहाद नहीं बल्कि उसका संवैधानिक अधिकार है।

डॉक्टर अय्यूब ने कहा कि सरकार समर्थित संगठन आरएसएस व अन्य उक्त मामले को तथाकथित लव जिहाद का नाम देकर झूठ कुप्रचार करके दो समुदायों के बीच नफरत का वातावरण बनाने का कार्य कर रहे हैं। अब भाजपा शासित राज्य तथाकथित लव जिहाद के नाम पर कानून बनाकर एक विशेष धर्म के मानने वालों (मुसलमानों) को प्रताड़ित करने का मार्ग प्रशस्त कर रहे हैं, जो संविधान के विरुद्ध है। डॉक्टर अय्यूब ने कहा कि पीस पार्टी उक्त काले कानून का विरोध करती है और उसके विरुद्ध हर संवैधानिक लड़ाई लड़ेगी।

Facebook Comments