विशेष रिपोर्ट

धर्मांतरण! मन्नू यादव और आदित्य गुप्ता कैसे धर्म परिवर्तन कर बन गए मन्नान और अब्दुल क़ादिर

आकांक्षा कुमार/ विवेक मिश्रा

जम्मू-कश्मीर से उत्तर प्रदेश और दिल्ली तक ‘अवैध’ धर्मांतरण का मामला गरमाया हुआ है। 28 जून को,उत्तर प्रदेश पुलिस के आतंकवाद निरोधी दस्ते ने कथित तौर पर “धर्मांतरण रैकेट” चलाने के आरोप में तीन लोगों को गिरफ्तार किया। गिरफ्तार किए गए लोगों में अब्दुल मन्नान उर्फ ​​मन्नू यादव, इरफान शेख और राहुल भोला अब मोहम्मद उमर गौतम और जहांगीर कासमी के साथ हिरासत में हैं, जिन्हें इसी मामले में 21 जून को गिरफ्तार किया गया था। गिरफ्तार किए गए धर्मप्रचारकों पाकिस्तान की आईएसआई से पैसे लेने और 1,000 लोगों का धर्मांतरण कराए जाने का आरोप है। हालांकि, उमर के परिवार ने पुलिस और मीडिया द्वारा उनके खिलाफ लगाए गए आरोपों को खारिज कर दिया।

पुलिस की ओर से दर्ज प्राथमिकी में आरोप है कि उमर गौतम द्वारा चलाई जाने वाली आईडीसी ने “कमजोर लोगों” विशेषकर बहरे और मूकबधिर लोगों को नौकरी और पत्नियों का लालच दिया, और उनका धर्म परिवर्तित कराया। मन्नान और आदित्य ने नोएडा स्थित डीफ सोसाइटी के एक आवासीय स्कूल में अध्ययन किया है। इस साल की शुरुआत में उनके परिवार ने उत्तर प्रदेश के कानपुर में आदित्य के परिवार ने उनके अपहरण और जबरन धर्म परिवर्तन का आरोप लगाते हुए एक पुलिस शिकायत दर्ज कराई थी, जबकि हरियाणा के गुड़गांव में मन्नान के रिश्तेदारों ने सोशल मीडिया पर वीडियो पोस्ट करते हुए दावा किया कि उनका जबरन धर्म परिवर्तन किया गया था। हालांकि वे दोनों ही कुछ हफ्तों के बाद अपने आप लौट आए,  उनसे एटीएस द्वारा पूछताछ की गई, इस पूछताछ में उनमें से प्रत्येक के लिए आईडीसी द्वारा जारी और कासमी द्वारा हस्ताक्षरित एक रूपांतरण प्रमाण पत्र मिला है। एटीएस का दावा है कि इन प्रमाणपत्रों ने उन्हें “लापता छात्रों” और “धर्मांतरण रैकेट” के बीच एक कड़ी स्थापित करने में मदद की।

कैसे शामिल हुई एटीएस

लेकिन सवाल यह है कि जब आदित्य के परिवार ने स्थानीय पुलिस से शिकायत की तो उसमें एटीएस कैसे शामिल हुई? उत्तर प्रदेश के कानून और व्यवस्था के अतिरिक्त महानिदेशक प्रशांत कुमार ने दावा किया कि एटीएस गाजियाबाद में डासना मंदिर के ‘महंत’ विवादित एंव भड़काऊ बयानों के लिये जाने जाने वाले यती नरसिंहानंद के मामले में जांच पड़ताल कर रही थी, इसी दौरान उन्होंने “सामूहिक धर्मांतरण रैकेट” का खुलासा किया। जब उन्होंने मन्नान और आदित्य के बारे में सुना, तो उन्होंने उनके धर्म परिवर्तन के पीछे का कारण जानने के लिए अपने परिवारों से संपर्क किया। प्रशांत कुमार ने 22 जून को संवाददाताओं से कहा था कि उन्होंने “लापता छात्रों”  को “रूपांतरण रैकेट” से कैसे जोड़ा, “इन बच्चों को अक्सर उनके परिवारों द्वारा भी छोड़ दिया जाता था। ये आसान टार्गेट थे, हमारे पास फंडिंग के सबूत हैं कि हम कोर्ट में पेश करेंगे।

मन्नू यादव से लेकर अब्दुल मनानी तक

मन्नू यादव की 43 वर्षीय मां अनीता यादव का कहना है कि उनके बेटे का व्यवहार फरवरी में अचानक से बदल गया। मन्नू की मां का आरोप है कि “उन्होंने ने मेरे बेटे को पागल कर दिया है”। वे बताती हैं कि “17 फरवरी की सुबह, मन्नू ने मुझे अपने पिता को फोन करने के लिए कहा, और कहा कि वह एक जरूरी मामले पर बात करना चाहता है। फिर, उसने अपने बैग से एक कागज का टुकड़ा निकाला और मेरे पति को सौंप दिया। यह मन्नान का धर्मांतरण प्रमाणपत्र था, जिस पर आईडीसी के मुफ्ती जहांगीर कासमी ने हस्ताक्षर किए हुए थे। जैसे ही उसके पति ने इसे पढ़ा तो वह लगभग बेहोश हो गए। अनीता के पति ने उसे पढ़कर कहा कि  “मन्नू अब हमारा नहीं है, वह अब अब्दुल मन्नान बन चुका है।”

Rajiv and Anita Yadav at their home.

अनीता के पति राजीव यादव  एक कैब ड्राइवर हैं। राजीव के मुताबिक़ “उन्होंने हमारे बेटे को बर्बाद कर दिया है। उसका ब्रेनवॉश किया गया है। अनीता और राजीव यादव एक दिन लगातार मीडिया को साक्षात्कार देने के बाद थके हुए गुड़गांव के बाबूपुर गांव में अपने घर पर थे। अनीता ने अपना सिर हाथों में पकड़कर एक पड़ोसी से कहा कि उसका सिर घूम रहा है। पड़ोसी ने अनीता को दिलासा दिया, “तुम्हें इंटरव्यू करते रहना होगा।” 22 वर्षीय मन्नान अनीता और राजीव का छोटा बेटा है, वह मूक बधिर, वह सांकेतिक भाषा के माध्यम से संवाद करता है। उसका बड़ा भाई अंकित रियल एस्टेट सेक्टर में काम करता है। अनीता बताती है हमने उससे कहा कि हमारा परिवार उसकी नई धार्मिक पहचान को स्वीकार नहीं करेगा, लेकिन वह अपने फैसले पर अटल रहा। “अगले पांच दिनों तक उसने कुछ भी नहीं खाया, उसने अपने कपड़े फाड़े और हमारी मूर्तियों और हिंदू देवी-देवताओं की तस्वीरें फेंक दीं।”  हमने उसका फोन छीन लिया और गौशाला चलाने वाले एक आरएसएस कार्यकर्ताओं को बुलाया उसने मन्नू को खाने के लिए मनाने की कोशिश की और उन्हें आश्वासन दिलाया कि हम उसे वह नहीं करने देंगे जो वह चाहते हैं। मन्नान ने आखिरकार खाना शुरू कर दिया, उसने जोर देकर कहा कि जब तक उसे अपने मुस्लिम दोस्तों के पास वापस जाने की अनुमति नहीं दी जाती, वह ठीक से नहीं खाएगा, हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि उसके परिवार ने उसे ऐसा करने से रोका या नहीं।

निराश होकर दीवार में मारता है सर

मन्नान जब निराश हो गया, तो उसने अपना सिर दीवार से टकरा दिया।  उसीक मां बताती है कि “वह कहता है कि उसे इस धर्म से ज्यादा इस्लाम पसंद है। लेकिन हम नहीं चाहते कि वह इस्लाम धर्म में जाए”। अनीता के मुताबिक़ मन्नान लगभग दो महीने तक घर पर रहा, लेकिन उन्होंने यह नहीं बताया कि यह उसकी मर्जी से था या परिवार ने उसे रोका था। उसकी माँ ने कहा, वह काफ़ी बदल गया है, उसने शर्ट और पतलून के बजाय कुर्ता-पायजामा पहनना शुरू कर दिया है। मन्नान ने 2017 में इस्लाम के बारे में बातें करना शुरू की थीं, अनीता बताती है कि “उसने मुझसे कहा कि अगर हम मर जाते हैं, तो वह हमें दाह संस्कार करने के बजाय दफनाना पसंद करेगा, लेकिन उस समय हमने उसे चुप करा दिया था।”

2018 में, मन्नान ने नोएडा डीफ सोसाइटी में सांकेतिक भाषा की कक्षाएं लेनी शुरू की, एक साल बाद, उसने अपने माता-पिता से पूछा कि क्या वह स्कूल के छात्रावास में जा सकता है। उन्होंने मना कर दिया, क्योंकि वे नहीं चाहते थे कि वह अपने दोस्तों के साथ अधिक समय बिताए, जिन पर उन्हें मन्नान को इस्लाम की ओर धकेलने का संदेह था – फरीदाबाद से शकील खान, नूंह से वाजिब अली और दिल्ली का एक गगन जो हाल ही में मुस्लिम भी बन गया था। ये चारों गुड़गांव के एक औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान में वेल्डिंग का वोकेशनल कोर्स करने के दौरान दोस्त बन गए थे। दिसंबर 2020 में मन्नान सेना में एक पद के लिए फिजिकल टेस्ट देने जालंधर गए थे। अनीता ने अनुमान लगाया, “वह परेशान था और हमें लगता है कि उस समय उसके मुस्लिम दोस्तों ने उसे अपने देवी-देवताओं को छोड़कर अल्लाह के मार्ग पर चलने के लिए कहा था।” अप्रैल में मन्नान कई दिनों तक घर से गायब रहा, जब यह अधिक हो गया, तो उसके पिता ने हरियाणा पुलिस में शिकायत दर्ज कराई, राजीव ने कहा, “मैं चाहता था कि वह उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई करें जिन्होंने मेरे बेटे को प्रभावित किया था।” स्थानीय पुलिस थाने में कई बार जाने और वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक के बावजूद कोई “कार्रवाई” नहीं हुई। इसलिए परिवार ने सोशल मीडिया पर मदद की गुहार लगाते हुए वीडियो पोस्ट करना शुरू कर दिया। एक फेसबुक वीडियो में, अंकित ने आरोप लगाया कि उसके भाई को नोएडा डीफ सोसाइटी में अपना धर्म बदलने के लिए मजबूर किया गया था, लेकिन स्कूल के अधिकारी और पुलिस परिवार की मदद नहीं कर रहे हैं।

Aditya Gupta With His Father

उन्होंने मन्नान का सेलफोन छीन लिया, जिसे बाद में एटीएस को सौंप दिया गया, राजीव ने कहा कि उन्हें व्हाट्सएप चैट मिलीं, जहां शकील ने मन्नान को धर्मांतरण प्रमाण पत्र के लिए प्रसंस्करण शुल्क के रूप में 2,800 रुपये का भुगतान करने के लिए कहा और मन्नान ने अपने दोस्त को उधार के 10,000 रुपये वापस करने के लिए कहा, उन्होंने मन्नान की शकील और आदित्य गुप्ता के साथ दिल्ली में एक आउटिंग की तस्वीरें भी देखीं। हालाँकि, इसमें कहीं भी उमर गौतम या जहांगीर कासमी का कोई उल्लेख नहीं है। लेकिन सवाल यह है कि फिर उमर गौतम और जहांगीर कासमी पर मन्नान का धर्म परिवर्तन करने का आरोप क्यों लगाया जा रहा है? राजीव ने बिना कोई सबूत दिए दावा किया, “मन्नू को नोएडा की डीफ सोसाइटी में जहांगीर कासमी से मिलवाया गया था। उसने उसे नशीला पदार्थ दिया होगा और उसे धर्म परिवर्तन के लिए मजबूर किया होगा, उमर गौतम की भी ऐसी ही भूमिका रही होगी।”

आदित्य गुप्ता उर्फ अब्दुल की एंट्री

अनीता और राजीव से बात करने के कुछ दिनों बाद एटीएस ने मन्नान को गिरफ्तार कर लिया, एटीएस ने एक बयान में उन पर आदित्य गुप्ता का जबरन धर्म परिवर्तन कराने में मदद करने का आरोप लगाया। उन्होंने यह भी दावा किया कि उन्होंने अपने ही घर में धार्मिक मूर्तियों को नुकसान पहुंचाया था। देवताओं की मूर्तियों को नुकसान पहुंचाना तभी अपराध है जब यह किसी सार्वजनिक स्थान पर किया गया हो, या मालिक की अनुमति के बिना किसी निजी स्थान पर किया गया हो, मन्नान के मामले में, उसके माता-पिता ने मूर्तियों को नुकसान पहुंचाने के लिए उसके खिलाफ शिकायत दर्ज नहीं की है।

हिंदुत्व से मोहभंग नहीं

कानपुर के कल्याणपुर इलाके में अपने घर के अंदर बैठे राकेश गुप्ता परेशान लग रहे थे क्योंकि मीडियाकर्मियों की भीड़ ने उनके बेटे के कथित रूप से जबरन धर्म परिवर्तन के संबंध में उन पर सवालों की झड़ी लगा दी थी। राकेश ने कहा कि “वह अभी घर लौटा है,” इससे मुराद उनका बेटा आदित्य है, जिससे राकेश अभी तक अपने बेटे बात नहीं कर पाए हैं।” 24 वर्षीय आदित्य भी मन्नान की तरह बहरा और गूंगा है। वह  10 मार्च को लापता हो गया था, जिसके बाद उसके परिवार ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी। हालांकि, एटीएस के अनुसार कुछ दिनों बाद  आदित्य ने अपने परिवार को एक वीडियो कॉल किया और बताया कि वह केरल में है। उसके माता-पिता के लिए इससे भी अधिक चौंकाने वाला यह था जब उसने कहा कि उसने इस्लाम धर्म अपना लिया है।

आदित्य की माँ लक्ष्मी गुप्ता ने बताती है कि “पिछले साल लॉकडाउन के दौरान रमजान के महीने में, जब भी मैंने उसे खाना दिया, तो उसने कहा कि वह शाम को खाएगा। बाद में मुझे लगा कि यह रोजा की वजह से हो सकता है। लक्ष्मी बताती है कि उसने आदित्य को नमाज अदा करते हुए भी देखा था। उन्होंने कहा कि आदित्य ने अपने माता-पिता से हिंदू देवी-देवताओं की मूर्तियों और पोस्टरों को हटाने के लिए भी कहा था। आदित्य की मां बताती हैं कि “मैं यह सब देखकर चिंतित थी, उसकी हमेशा से मंदिर जाने में रुचि थी और उसका कभी भी हिंदू धर्म से मोहभंग नहीं हुआ था।”

Aditya Gupta With His Father

14 जनवरी 2021 को आदित्य का मतांतरण प्रमाणपत्र आईडीसी द्वारा जारी किया गया था यह प्रमाणपत्र भी जहांगीर कासमी द्वारा हस्ताक्षरित किया गया था। आदित्य के पिता राकेश ने कहते हैं कि उन्हें यकीन नहीं था कि उनका बेटा उमर गौतम या जहांगीर कासमी के संपर्क में कैसे आया। जब आदित्य की मां से पूछा गया कि क्या यह उनके बेटे ने अपनी मर्ज़ी से इस्लाम अपनाया है तो उसकी मां ने जोर देकर “नहीं, यह संभव नहीं है। हालाँकि, उन्होंने स्वीकार किया कि आदित्य का इस्लाम की ओर रुख अचानक नहीं था, 2012 में जब आदित्य लगभग 14 वर्ष का रहा होगा उस वक्त उसने दावा किया, उसकी मोहम्मद वसीब से दोस्ती हो गई, जिसने उसे कानपुर के हलीम मुस्लिम पोस्ट ग्रेजुएट कॉलेज के एक शिक्षक से मिलवाया। अपने माता-पिता के संज्ञान में लाए बिना आदित्य कॉलेज में कक्षाएं ले रहा था। ये “कक्षाएँ इस्लाम से संबंधित थीं, जब मुझे पता चला तो मैंने उसे वहां जाने से रोक दिया और शिक्षक से कहा कि हमें वहां उसकी शिक्षा जारी रखने में कोई दिलचस्पी नहीं है।

आदित्य की मां से यह पूछे जाने पर कि क्या बात आदित्य को नौ साल बाद नए धर्म को स्वीकार करने के लिए प्रेरित कर सकती थी? लक्ष्मी ने परिवार की आर्थिक स्थिति और एक विकलांग बच्चे के परिवार की अक्षमता की ओर इशारा किया कि वह वास्तव में क्या चाहता है। उन्होंने बताया कि आदित्य ने उनसे सवाल किए कि क्या हिंदू धर्म सबसे पुराना धर्म है? हिंदू धर्म में कई देवता क्यों हैं? मांस खाना वर्जित क्यों है? ये हिंदू धर्म में पोशाक और शादी के सवाल कागज पर लिखे गए हैं।

आदित्य को लग रहा है डर

आदित्य, अब घर वापस आ गया है। जब उससे सांकेतिक भाषा में पूछा गया कि क्या उसे इस्लाम अपनाने के लिए प्रेरित या मजबूर किया गया था तो इस पर उसने बताया कि “मैं अक्सर हिंदू देवताओं से प्रार्थना करता था लेकिन कुछ भी नहीं हुआ। मैं चर्च भी गया, लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला। तो, किसी ने सुझाव दिया कि मैं अल्लाह के पास जाता हूं,  लेकिन अब मैं देख रहा हूं कि जिन लोगों ने मुझे यह रास्ता सुझाया था, वे गिरफ्तार हो रहे हैं, इसलिए मुझे डर लग रहा है।

लक्ष्मी नियमित रूप से आदित्य को अपने मंदिर ले जाती है। वे दावा करती हैं कि  “उसकी मित्र मंडली में कुछ अमीर लोग थे और इसलिए जब किसी ने उससे कहा कि वह अल्लाह के रास्ते पर चलकर समृद्ध हो सकता है, तो वह नौकरी और पैसे की तलाश में उस रास्ते पर चला गया। लेकिन साथ ही उन्होंने यह भी दावा किया कि वैसे भी, हम उसकी (आदित्य की) सांकेतिक भाषा को ज्यादा नहीं समझते हैं।”

(आकांक्षा कुमार/ विवेक मिश्रा की यह रिपोर्ट न्यूज़लॉन्ड्री अंग्रेजी पोर्टल से हिंदी में रूपांतरित की गई है।)