बुल्लीबाई प्रकरण: दिल्ली महिला आयोग ने दिल्ली पुलिस को किया तलब, 6 जनवरी को आयोग के समक्ष…

नयी दिल्लीः दिल्ली महिला आयोग ने सोमवार को ‘बुली बाई’ एप मामले में राजधानी की पुलिस के साइबर क्राइम सेल को समन जारी किया। दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने कहा, “मेरा मानना ​​है कि साइबर अपराध से जुड़े मामलों में दिल्ली पुलिस का कठोर व्यवहार और कारवाई न होने के कारण ये घटनाएं हो रही हैं और बढ़ रही हैं। मैंने पुलिस से जवाब मांगा है की क्यों इतना समय गुजरने के बावजूद सुल्ली डील मामले में अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई? मामले की गंभीरता को देखते हुए दिल्ली पुलिस की करवाई में लापारवाही बिलकुल भी स्वीकार्य नहीं है। मैने दिल्ली पुलिस को तलब कर ‘सुली डील’ और ‘बुली बाई’ एप दोनों मामलों में अपराधियों को ढूंढने और तुरंत गिरफ्तार करने की मांग की है एवं साइबर अपराध से जुड़े बाकी मामलों में भी जल्द-जल्द कारवाई करने को कहा है। हम ऐसे मामलों में पुलिस की जवाबदारी जरूर सुनिश्चित करेंगे।”

आयोग ने मुस्लिम लड़कियों की तस्वीरों को उनकी सहमति के बिना इंटरनेट प्लेटफॉर्म ‘गिटहब’ पर अपलोड किए जाने और उनकी नीलामी से जुड़ी मीडिया रिर्पोटों का संज्ञान लेते हुए साइबर सेल को तलब किया। रिपोर्ट के मुताबिक सैकड़ों मुस्लिम महिलाओं और लड़कियों की अश्लील तस्वीरों को एक अज्ञात समूह द्वारा इंटरनेट प्लेटफॉर्म ‘गिटहब’ का उपयोग करके एक एप पर अपलोड किया जा रहा था जिसे एप पर ‘बुली डील ऑफ द डे’ के नाम से साझा किया जा रहा था।

आयोग ने पिछले साल 2021 में सामने आए ऐसे ही मामले के ऊपर भी प्रकाश डाला जिसमें पहले भी इसी तरह कई मुस्लिम महिलाओं और लड़कियों की तस्वीरें ‘सुल्ली डील्स’ नाम से ‘गिटहब’ ऐप पर नीलामी के लिए अपलोड की गई थी। दिल्ली पुलिस ने डीसीडब्ल्यू के हस्तक्षेप के बाद पिछले साल जुलाई में उस मामले में प्राथमिकी दर्ज की थी परंतु मामले के इतने संगीन होने के बावजूद आज तक पुलिस द्वारा कोई गिरफ्तारी नहीं की गई। दिल्ली महिला आयोग ने इतने गंभीर मामले में दोषियों की गिरफ्तारी न होने पर अपनी चिंता और आश्चर्य व्यक्त किया। आयोग ने मामले पर गुस्सा जताते हुए कहा कि ‘सुली डील्स’ मामले में पुलिस के तुरंत एक्शन ना लेने के कारण ही आज दुबारा मुस्लिम लकड़ियों और महिलाओं की ऑनलाइन नीलामी का शर्मनाक मामला ‘बुल्ली बाई ऐप’ के रूप में सामने आया है।

आयोग ने दिल्ली पुलिस को ऐसे मामलों में अपने एक्शन प्लान एवं जारी दिशा-निर्देशों का विवरण बताने को भी कहा गया है। महिला आयोग ने दिल्ली पुलिस को दोनों मामलों की पूरी जानकारी एवं दोनों में की गई कार्रवाई की एक विस्तृत एक्शन टेकन रिपोर्ट के साथ छह जनवरी को आयोग के समक्ष पेश होने का निर्देश दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *