विशेष रिपोर्ट

बिहारः 22 मुस्लिम छात्र/छात्राओं ने जज बनकर रचा इतिहास, यहां देखें पूरी लिस्ट

नई दिल्ली/पटनाः  बिहार न्यायिक सेवा के परिणाम आचुके हैं जिसमें 22 मुस्लिम छात्र छात्राओं के नाम शामिल हैं,शुक्रवार को आए परिणाम में 22 मुस्लिम जज बन गए हैं। खास बात यह है इनमें से 7 मुस्लिम लड़कियां है और इससे भी खास बात यह है।पटना की हिज़ाब पहनने वाली लड़की सनम हयात ने सभी मुस्लिम प्रतिभागियों में सबसे ज्यादा रैंक हासिल की है।

सनम हयात की दसवीं रैंक है,वही कड़ी मेहनत के बाद जज बनी झारखंड के बोकारो की बेटी शबनम ज़बी के जज बनने पर भी तारीफ़ बटौरी जा रही है। गौरतलब है कि यूपी में भी न्यायिक सेवा में 38 मुस्लिमों ने ‘योर ऑनर’ कहलाने का हक़ हासिल किया था। इनमे से 18 लड़कियां है। हाल ही में राजस्थान के रिज़ल्ट में 6 मुस्लिम चुने गए जिनमे से पांच लड़कियां थी। बिहार में कुल 22 मुस्लिम जज बने है। इनमें से 7 लड़कियांहै।

देखा जाए तो लड़कों के मुक़ाबले लड़कियां यहां पिछड़ गई है मगर बिहार में महिलाओं की स्थिति को देखते हुए यह क़ाबिल ए तारीफ है। यूपी, राजस्थान के बाद अब बिहार के 6 मुस्लिम ने भी अपने राज्य का नाम ऊंचा किया है। उन्हें बेटियों पर गर्व है, अधिवक्ता इक़बाल की बेटी शबनम ज़बी भी इसी परिणाम में जज बनी है।

शुकवार को परिणाम के मुताबिक 30 वी बिहार न्यायिक सेवा परीक्षा में कुल 1080 उम्मीदवारों को साक्षात्कार के लिए बुलाया गया था।जिनमे से 687 लोगों को चुना गया। हालांकि उत्तर प्रदेश न्यायिक सेवा के परिणाम की तुलना में यह रिज़ल्ट कम है। मगर वर्तमान की तुलना में काफी ज्यादा तरक्की हासिल किया गया है। खासतौर पर 7 लड़कियों का जज बनना बेहद काबीले तारीफ है।

आपको बता दे कि मुसलमानों की शिक्षा भारत में सबसे कम है, जिसको लेकर मुसलमानों का एकबड़ा तबका बदहाली की जिदंगी में जी रहा है। जिस तरह से मुसलमानों ने न्यायिक सेवा में अपने जीत का परचम लहराया है। बढ़ती शिक्षा से प्रेरित होकर अब मुसलमान अपने बच्चों को शिक्षित करेंगे ये एक बड़ी बात है।

सनम हयात (रैंक10) महविश फातिमा (रैंक 29) मोहम्मद अफजल खान (रैंक109) मोहम्मद अकबर अंसारी (रैंक134) ग़ज़ाला साहिबा (रैंक177) शारिक हैदर (रैंक 117) (आसिफ नवाज़ (रैंक 121) नाजिया खान (रैंक 131) उज़मा कमर (रैंक 133) नाजिम अहमद (रैंक289) शबनम ज़बी (रैंक294) मोहम्मद शुएब (रैंक398) मासूम खानम (रैंक440) सफदर सालन (रैंक445) मोहम्मद फहद हुसैन (रैंक 447) सबा शकील (रैंक486) शाद रज्ज़ाक (रैंक 506) महजबी नाज (रैंक541) मसरूर आलम (रैंक559) ग़ुलाम रसूल (रैंक 464) सरवर अंसारी (रैंक 524) इज़्म्मुल हक़ ने 471 वीं रैंक हासिल की है।

13 thoughts on “बिहारः 22 मुस्लिम छात्र/छात्राओं ने जज बनकर रचा इतिहास, यहां देखें पूरी लिस्ट

  1. I am only writing to make you understand what a superb experience our princess undergone viewing yuor web blog. She picked up such a lot of things, with the inclusion of what it is like to possess an excellent helping nature to let other people with ease learn specific specialized things. You truly surpassed people’s expected results. Thank you for producing these precious, trusted, informative and in addition fun tips about this topic to Lizeth.

Leave a Reply

Your email address will not be published.