विशेष रिपोर्ट

गुजरात की जेल से 12 साल बाद बरी हुए बशीर अहमद, मां बोलीं ‘अल्लाह ने मेरी दुआएं कबूल कर लीं’

श्रीनगर: कश्मीर के श्रीनगर निवासी बशीर अहमद बाबा आख़िरकार 12 साल तक न्याय पाने की लड़ाई लड़ने के बाद अपने ऊपर लगे तमाम आरोपों से बरी हो गए। गुजरात के सूरत की एक निचली अदालत ने बशीर अहमद के ऊपर लगे गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम (यूएपीए) को हटाते हुए उन्हें बरी कर दिया। बशीर अब अपने घर लौट आए हैं। 2010 में जब उन्हें गिरफ्तार किया गया था तब मीडिया ने उन्हें “पेप्सी बॉम्बर” के रूप में प्रचारित/प्रसारित किया था।

श्रीनगर के रैनावारी इलाके के रहने वाले 44 वर्षीय बशीर अहमद बाबा को 2010 में गुजरात में इस आरोप में हिरासत में लिया गया था कि वह राज्य में युवाओं को उग्रवादी रैंक में भर्ती करने के लिए जा रहा था। अपनी सुनवाई की पूरी अवधि के दौरान बाबा ने अपनी बेगुनाही बरकरार रखी और अदालत को बताया कि उन्हें उस समय जिस कंपनी में नियुक्त किया गया था, उस कंपनी ने उन्हें कंप्यूटर प्रबंधन में प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए गुजरात भेजा था। बाबा ने बताया कि उन्हें एक सहयोगी के साथ अहमदाबाद के एक छात्रावास में दो सप्ताह के प्रशिक्षण सत्र में भाग लेने के लिए भेजा गया था, जहां उनके आगमन के सातवें दिन, गुजरात पुलिस के आतंकवाद विरोधी दस्ते (एटीएस) ने उन्हें और उनके सहयोगी को हिरासत में लिया।

ग़ैर कश्मीरी को छोड़ दिया गया

बशीर अहमद बाबा कहते हैं कि उनका सहयोगी गैर-कश्मीरी था, उसे छोड़ दिया गया, लेकिन उससे पूछताछ होती रही, इसके बाद अगले दो हफ्तों तक उसकी पिटाई भी की गई। बशीर कहते हैं कि “मुझे नहीं पता था कि पूछताछ करने वाले अफसर मुझसे किस बारे में बात कर रहे थे। उन्होंने मुझे यह भी नहीं बताया कि मैंने क्या किया है वे कहते रहे कि मुझे कबूल करना चाहिए”। दो हफ्ते बाद एटीएस ने आखिरकार मेरी गिरफ्तारी की घोषणा की, कुछ सप्ताह पुलिस रिमांड में बिताने के बाद बाबा को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया और वडोदरा सेंट्रल जेल में बंद कर दिया गया।

बाबा कहते हैं कि “मैं निर्दोष था और मुझे पता था कि एक दिन मुझे रिहा कर दिया जाएगा लेकिन यह नहीं पता था कि इसमें इतना समय लगेगा, मैंने अपने इस विश्वास को कभी नहीं खोया, फिर भी मुझे बहुत पछतावा नहीं है। मुझे लगता है कि  यह अल्लाह की ओर से मेरा इम्तिहान था। बाबा ने कहा कि उन्होंने मुस्लिम और कश्मीरी युवाओं को वर्षों से गलत तरीके से जेल में डाले जाने की कहानियां सुनी हैं, लेकिन कभी नहीं सोचा था कि वह उन कहानियों में से एक कहानी का किरदार वह बन जाएंगे। जेल के बाहर, कुछ मीडिया संस्थानों ने “एटीएस के सूत्रों” का हवाला दिया और दावा किया कि बाबा बम बनाने में माहिर थे। बाबा को जल्द ही उनका उपनाम मिल गया – “द पेप्सी बॉम्बर”। मीडिया संस्थानों ने इस नाम के पीछे दावा किया था बाबा ने विस्फोटक बनाने के लिए शीतल पेय के डिब्बे का इस्तेमाल किया करता था।

जी.के. पिल्लईउस समय केंद्रीय गृह सचिव के रूप में कार्यरत ने बाबा की गिरफ्तारी को “बड़ी सफलता” बताया। सेवानिवृत्त अधिकारी ने कहा कि अभियोजन पक्ष को कथित आतंकी साजिशों में गिरफ्तार किए गए व्यक्तियों की सटीक भूमिकाओं की समीक्षा करनी चाहिए। “क्या होता है कि अभियोजन कुछ गिरफ्तार व्यक्तियों पर ध्यान केंद्रित करता है, जिनके बारे में उनका मानना ​​​​है कि वे मुख्य साजिशकर्ता हैं। लेकिन गिरफ्तार किए गए लोगों में ऐसे लोग भी हो सकते हैं जिन्होंने अनजाने में इस तरह की साजिश में शामिल किसी दोस्त या परिचित की मदद की हो। हो सकता है कि इन व्यक्तियों को इस बात की जानकारी न हो कि क्या हो रहा है और जब तक न्यायाधीश को यह एहसास नहीं हो जाता कि उनके खिलाफ सबूत इतने मजबूत नहीं हैं कि उन्हें यूएपीए के तहत दोषी ठहराया जा सके, तब तक वे जेल में रहेंगे। ऐसे मामलों में अभियोजन पक्ष को यह स्पष्ट करना चाहिए कि कौन से लोग मामले में गहराई से शामिल हैं और कौन से लोग गौण लोग हो सकते हैं ताकि वे दशकों तक जेल में न रहें।

मुझे तो अपना गुनाह भी नहीं मालूम

लेकिन बशीर बाबा के लिए पिल्लई के ये शब्द बहुत कम हैं, उनका अब भी कहना है कि उनका कभी किसी व्यक्ति या उग्रवादी संगठनों से कोई संपर्क नहीं रहा और वह केवल प्रशिक्षण सत्र के लिए गुजरात गए थे। “मुझे मेरे संगठन द्वारा (छात्रावास का) पता दिया गया था। रेलवे स्टेशन पहुँचकर मैंने एक ऑटो चालक को पता दिखाया जिसने मुझे वहाँ छोड़ा था। छह दिन बाद एटीएस ने मेरे दरवाजे पर दस्तक दी, “मुझे तो अपने अपराध के बारे में पता भी नहीं था। कई हफ्ते बाद मुझे पता चला कि मुझ पर क्या आरोप लगाया जा रहा है या मेरा उपनाम क्या है। उस वक्त को याद करते हुए बाबा कहते हैं कि वह बेहद निराशाजनक था।

मीडिया से भी शिकायत

बशीर बाबा ने मीडिया कवरेज से भी शिकायत है। बाबा कहते हैं कि “मुझे नहीं पता था कि मुझे अपना समय कैसे बिताना चाहिए। यह मेरे लिए बिल्कुल नया था। बेशक मैं दुआएं और करता था, मैंने अध्ययन करना शुरू कर दिया। जेल अधिकारियों ने मेरा सहयोग किया और मुझे अपनी मास्टर डिग्री हासिल करने की अनुमति दी। आखिरकार मुझे तीन मास्टर डिग्री मिल गई। एक राजनीति विज्ञान में, एक लोक प्रशासन में और दूसरा बौद्धिक संपदा अधिनियम में डिग्री हासिल की। गिरफ्तारी से पहले, बशीर की कंप्यूटर प्रौद्योगिकी में रुचि ने उन्हें इस विषय में डिप्लोमा करने के लिए प्रेरित किया था। उन्होंने एक छोटा कंप्यूटर केंद्र स्थापित किया था, जहां रोजगार की तलाश करने वाले इच्छुक युवाओं को प्रशिक्षण दिया जाता था। बाबा आखिरकार भारत में बाल स्वास्थ्य देखभाल पर काम करने वाले जर्मनी स्थित एक गैर-सरकारी संगठन में शामिल हो गए थे। इसी दौरान उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। अगले कई वर्षों तक, बाबा के परिवार ने अदालत में एक लड़ाई लड़ी, लेकिन उनके सबसे बड़े बेटे का मुकदमा आर्थिक असर्थता का सामना करना पड़ा।

खारिज होती रही ज़मानत

बाबा के परिवार ने शुरुआती दिनों में जमानत के लिए आवेदन किया लेकिन उन्होंने अर्जी खारिज होने के डर से उन्होंने अलग रास्ता अपनाया। उनके वकील ने सुझाव दिया कि वे बार-बार जमानत के लिए आवेदन करने के बजाय आरोपों का जवाब देने पर ध्यान दें। हालांकि, जब उन्हें पता चला कि उनके पिता को कैंसर होने का पता चला तो उनके परिवार ने बाबा की जमानत के लिए प्रयास किया, लेकिन बाबा के मामले की गंभीरता के आधार पर जमानत खारिज कर दी गई थी। बाबा के छोटे भाई नज़ीर बताते हैं कि “मैं और पिता ने निर्णय लिया था कि ज़मानत के लिये पूरे गुजरात में फिरेंगे, लेकिन मेरे परिवार को सबसे बड़ा झटका तब लगा जब उन्हें पिता के पेट के कैंसर का पता चला। 2017 में उनका निधन हो गया। नज़ीर बताते हैं कि जब कोविड ​​​​-19 के प्रकोप के कारण कैदियों को रिहा करने की बात चल रही थी, तो परिवार ने बाबा की जमानत के लिए फिर से कोशिश की थी। नज़ीर बताते हैं कि, “हमने श्रीनगर में जिला आयुक्त के कार्यालय में सभी आवश्यक दस्तावेज जमा किए लेकिन हमें कोई जवाब नहीं मिला।” अहमद श्रीनगर में एक सेल्समैन के रूप में काम करते हैं, और अपने भाई के मामले में की पैरवी के लिए समय निकालने के अलावा, वह अपने पिता के बाद अपने परिवार की देखभाल करने में कामयाब रहे। अहमद ने कहा, “कई बार मुझे लगा कि मैं आगे नहीं बढ़ सकता, लेकिन फिर अल्लाह ने मुझे ताकत दी।”

बशीर उन्हें रिहा कराने में उनके वकील जावेद खान की भूमिका को भी स्वीकार किया है। बाबा ने कहा, बाबा की माँ मोख्ता को अभी भी यह विश्वास करना अभी भी मुश्किल लगता है कि उनका बेटा घर पर है। वे कहती हैं कि उन्होंने पिछले 12 वर्षों में अपने सबसे बड़े बेटे को केवल एक बार देखा था। “मैं 2014 में एक बार उनसे मिलने गयी थी। जब मैंने देखा कि उन्हें कहाँ रखा गया है, तो मेरे पास केवल एक ही विचार था, वह कैसे बचेगा। वे कहती हैं कि मैं अपने बेटे की रिहाई के लिए अल्लाह से दुआ करती थी। मेरी दुआएं आख़िरकार क़बूल हो गईं।

(अंग्रेज़ी न्यूज़ पोर्टल द वायर से अज़ान जावेद की रिपोर्ट का हिंदी रूपांतरण, अनुवाद द रिपोर्ट टीम)