आवेश ख़ान: भारतीय क्रिकेट का ऐसा पहला खिलाड़ी जिसका रणजी खेले बिना विदेशी दौरे के लिये हुआ टीम इंडिया में चयन

0
299

इंदौर: न्यूजीलैंड के खिलाफ होने वाली तीन मैचों की श्रृंखला के लिए भारतीय टी20 टीम में शामिल किए गए तेज गेंदबाज आवेश खान ने बुधवार को कहा कि देश की नुमाइंदगी का उनका सपना आखिरकार पूरा गया है। अलग-अलग प्रतियोगिताओं में खेलकर तीन महीने बाद बुधवार सुबह ही इंदौर लौटे खान के घर उनके रिश्तेदारों, परिचितों और प्रशंसकों का तांता लग गया है जो उन्हें भारतीय टीम में चुने जाने की बधाई दे रहे हैं। इस दौरान उनके परिजन, आगंतुकों को मिठाई खिलाकर और आतिशबाजी कर खुशियां मनाते देखे गए।

जश्न के बीच खान ने कहा, ‘‘हर क्रिकेटर का सपना होता है कि वह अपने देश के लिए खेले और वह इसी सपने को हकीकत में बदलने के लिए मेहनत करता है। मेरा यह सपना अब पूरा हो गया है।” खान ने कहा कि पिछली घरेलू प्रतियोगिताओं और आईपीएल में उन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया था जिससे उन्हें भारतीय टीम में जगह बनाने में मदद मिली।

इस 24 वर्षीय तेज गेंदबाज ने अपनी इस उपलब्धि का श्रेय अमय खुरासिया, चंद्रकांत पंडित, देवेंद्र बुंदेला और अब्बास अली जैसे पूर्व क्रिकेटरों को दिया जिन्होंने उनकी काबिलियत को पहचाना और मार्गदर्शन के जरिये इसे तराशा। आवेश खान ने कहा कि उन्हें बचपन से क्रिकेट खेलने का शौक था और वह पेशेवर क्रिकेटर ही बनना चाहते थे।

तेज गेंदबाज के पिता आशिक खान याद करते हैं कि उनके बेटे के सपनों को कैसे पंख लगे। उन्होंने बताया,‘‘मेरा बेटा पहले इंदौर कोल्ट्स क्रिकेट क्लब से जुड़ा। फिर अमय खुरासिया ने उसके हुनर को पहचानते हुए अपनी क्रिकेट अकादमी में प्रशिक्षण के लिए उसे चुना। इसके बाद उसने पीछे मुड़कर नहीं देखा।” उन्होंने बताया, ‘‘आवेश जब तीन महीने बाद आज (बुधवार) सुबह इंदौर लौटा, तो हम हवाई अड्डे से सीधे खुरासिया के घर पहुंचे और मेरे बेटे ने उनका आशीर्वाद लिया।’’

गौरतलब है कि आवेश खान के साथ ही इंदौर के हरफनमौला क्रिकेटर वेंकटेश अय्यर (26) ने भी न्यूजीलैंड के खिलाफ होने वाली तीन मैचों की श्रृंखला के लिए भारतीय टी20 टीम में जगह बनाई है। दोनों खिलाड़ियों के इस चयन से स्थानीय क्रिकेट प्रेमियों में जश्न का माहौल है।

ऐसा पहली बार हुआ जब

भारतीय क्रिकेट में ऐसा भी कुछ ही बार हुआ है,जब रणजी खेले बिना किसी खिलाड़ी को विदेशी दौरे के लिए देश की टीम में शामिल किया गया हो,रफ़्तार के सौदागर कश्मीर के उमरान मलिक का ए टीम में चयन। उमरान जब भारतीय टीम के नेट गेंदबाज बने थे तब केवल एक लिस्ट ए और दो आईपीएल के मैच खेले थे। अब सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में खेल रहे हैं।

हरियाणा की मजबूत टीम के खिलाफ 6 गेंदों पर 4 विकेट लेकर जम्मू कश्मीर को जितवाया है। इस टुर्नामेंट में भी वह लगातार 150 किलो मीटर से अधिक की रफ्तार से गेंदबाजी कर रहे हैं। जबकि आईपीएल में उन्होंने 153 किलो मीटर प्रति घंटे की गति निकाली थी।वह इस समय भारत के सबसे तेज़ गेंदबाज हैं।

Leave a Reply