देश

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय, राजा महेन्द्र प्रताप और ध्रुवीकरण के प्रयास

सांप्रदायिक राजनीति के झंडाबरदारों को न केवल धार्मिक आधार पर ध्रुवीकरण करवाने की कला में महारत हासिल है वरन् वे इसके नए-नए तरीके भी ईजाद करते रहते हैं. मुजफ्फरनगर में इसके लिए ‘लव जिहाद’ का इस्तेमाल किया गया तो अलीगढ़ में अतुलनीय गुणों के धनी राजा महेन्द्र प्रताप सिंह के नाम का उपयोग इसी उद्देश्य […]

देश

क्या सभी कट्टरपंथी एक ही थैली के चट्टे-बट्टे होते हैं? क्या तालिबान की तुलना आरएसएस से हो सकती है?

अफगानिस्तान में तालिबान की सत्ता में वापिसी ने उनके पिछले शासनकाल की यादें ताजा कर दी हैं. उस दौरान तालिबान ने शरिया का अपना संस्करण लागू किया था और महिलाओं का भयावह दमन किया था. उन्होंने पुरूषों को भी नहीं छोड़ा था. पुरूषों के लिए एक विशेष तरह की पोशाक और दाढ़ी अनिवार्य बना दी […]

देश

राम पुनियानी का लेख: बहुवादी समाज में नफरत से जंग मुसलमानों पर हमले

भारत का विविधवर्णी चरित्र सचमुच अद्भुत है। भारतीय उपमहाद्वीप में विभिन्न संस्कृतियों, धर्मों और भाषायी व नस्लीय समूहों के लोग सदियों से एक साथ मिलजुलकर रहते आए हैं। भक्ति-सूफी संतों और स्वाधीनता संग्राम ने विभिन्न समुदायों के बीच एकता के भाव को और मजबूती दी। परंतु कुछ दशकों और विशेषकर पिछले कुछ सालों से भारत […]