अखिलेश यादव को मुख्यमंत्री बनाना है, इसके साथ ही सत्ता का सितम और जुल्म खत्म होगा: अब्दुल्लाह आज़म

ज़रूर पढ़े

रामपुरः विभिन्न आपराधिक मामलों में पिछले 23 महीनों से जेल में बंद अब्दुल्लाह आजम जमानत पर शनिवार देर रात सीतापुर जेल से रिहा होकर अपने गृह जनपद रामपुर पहुंचे। उन्होंने जेल से रिहा होते ही योगी सरकार पर जमकर गुस्सा निकालते हुये कहा कि उनके पिता और सांसद आजम खान बीमार चल रहे हैं। अब्दुल्लाह आजम ने कहा कि एक बीमार इंसान को फर्ज़ी मुकदमों में फंसा कर दो साल से जेल में रखा हुआ है। उन्होंने कहा कि आज भी कोई ऐसी साजिश या रुकावट ऐसी नहीं है जो उनके पिता की जमानत के रास्ते में डाली न जा रही हो।

अब्दुल्लाह आजम ने कहा कि आज तक उन्हें और उनके परिवार को न्यायालय से इंसाफ मिला है और उम्मीद है कि आगे भी उन्हें न्याय मिलेगा। उन्होंने सरकार पर आरोप लगाया कि जमानत पर रिहा होने से पहले उन्हें जेल से बाहर निकलने के बाद मीडिया से बात करने तक से मना किया गया। अब्दुल्लाह आजम ने कहा कि कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुये मीडिया से बात करना उनका और मीडिया का लोकतांत्रिक मौलिक अधिकार है। उन्होंने कहा कि आने वाली 10 मार्च को अखिलेश यादव को मुख्यमंत्री बनाना है। इसके साथ ही सत्ता का सितम और जुल्म खत्म होगा।

दारा सिंह सपा में शामिल हुये

हाल ही में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को छोड़ने वाले योगी सरकार के पूर्व मंत्री दारासिंह चौहान ने रविवार को समाजवादी पार्टी (सपा) का दामन थाम लिया। सपा के अध्यक्ष अखिलेश यादव की मौजूदगी में यहां स्थित सपा मुख्यालय में चौहान ने अपने समर्थकों के साथ पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। इस मौके पर चौहान ने भाजपा पर गरीबों के साथ अन्याय करने का आरोप लगाते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में पांच साल में जब समाज के सभी वर्गों में त्राहि त्राहि मच गयी तब उन्हें मंत्री पद छोड़ने का फैसला करना पड़ा।


उन्होंने इसे अपनी घर वापसी बताते हुए कहा कि भाजपा ने सत्ता में आने के लिये अपने नारे के अनुरूप साथ तो सबका लिया, लेकिन योगी सरकार में विकास चंद लोगों का हुआ। उन्होंने कहा कि योगी सरकार में गरीब जनता को अनाज राशन देकर गुलाम बनाने की साजिश की जा रही है।

चौहान ने कहा कि प्रदेश के लोग अब खुद को ठगने की इजाजत किसी को नहीं देंगे। उन्होंने कहा कि किसान को आज अपनी फसल की रखवाली के लिये पूस की रात में खेत पर सोना पड़ रहा है। आरक्षण व्यवस्था को खत्म कर संविधान को समाप्त करने की साजिश की जा रही है।

चौहान ने कहा कि लोग अब 10 मार्च का इंतजार कर रहे हैं जब वे अखिलेश यादव को मुख्यमंत्री बनाते देखेंगे। उन्होंने कहा, “भाजपा में हम पांच साल तक इंतजार करते रहे कि दलित और पिछड़ों का भरोसा कायम होगा। जब पूरे प्रदेश से त्राहि त्राहि मचने लगी तब हमें भाजपा छोड़नी पड़ी।

ताज़ा खबर

इस तरह की और खबरें

TheReports.In ऐप इंस्टॉल करें

X