देश

एक तरफ कोरोना की मार दूसरी तरफ बीजेपी द्वारा महंगाई की मार : आफताब अहमद

इफ़्तेखार कुरैशी

मेवात: हरियाणा कांग्रेस विधायक दल के उप नेता व नूंह विधायक चौधरी आफताब अहमद की अगुवाई में बुधवार को मेवात कांग्रेस की अलग अलग इकाईयों ने जिला मुख्यालय पर बीजेपी सरकार के खिलाफ खाद्य पदार्थों की लगातार मूल्य वृद्धि के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन किया। कांग्रेसी कार्यकर्ता जिला मुख्यालय से पैदल मार्च करते हुए शहर के मुख्य बाजार पहुंचे जहां घंटों तक बीजेपी सरकार के खिलाफ नारे बाजी करते रहे।

आफताब अहमद ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी व पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के आह्वान पर ये प्रदर्शन किया गया और उनके नेतृत्व में जब तक कांग्रेस प्रदर्शन करती रहेगी जब तक बीजेपी सरकार को महंगाई कम करने के लिए बाध्य नहीं कर दिया जाता।

बीजेपी सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व करते हुए सीएलपी उप नेता चौधरी आफताब अहमद ने लोगों को खिताब करते हुए कहा कि एक तरफ लोग कोरोना से त्रस्त हैं तो दूसरी तरफ महंगाई से परेशान हैं। उन्होंने कहा कि हरियाणा सरकार ने पिछले एक साल में पेट्रोल व डीजल पर 20 रुपए प्रति लीटर पर बढ़ाएं हैं जो शर्मनाक है। रसोई गैस 414 रू से बढ़कर 910 रूपए प्रति सिलिंडर बीजेपी सरकार में हो गया है तो सरसों के तेल के दाम कांग्रेस सरकार में 52 रुपए प्रति किलो थे तो आज बीजेपी राज में 180 रु पहुंच गए हैं।

नूंह विधायक चौधरी आफताब अहमद ने कहा कि कोरोना काल में जनता अपना पेट काट रही है वहीं मोदी सरकार लोगों की जेब काट रही है। कोरोना काल में बीजेपी की गलत नीति व नियत से बेरोजगारी व महंगाई आसमान छू गई है जिससे आम आदमी को बड़ी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है।

आफताब अहमद ने कहा कि क्या बीजेपी केंद्र सरकार द्वारा पेट्रोल, डीजल, रसोई गैस, सरसों का तेल व खाद्य पदार्थों के बढ़ रहे दामों के प्रति अंजान बन सिर्फ सत्ता सुख भोगना चाहती है। आज गरीब महंगाई की चक्की में पिसा जा रहा है। वहीं पेट्रोल, डीजल के बढ़ते दामों प्रति मोदी सरकार द्वारा आंख बंद कर अंजान बनना कारपोरेट जगत को फायदा पहुंचाने जैसा है। क्रूड आयल के दाम आज कम है। फिर पेट्रोल, डीजल के दाम बढ़ाना केंद्र सरकार की सोची समझी चाल है।

विधायक चौधरी आफताब अहमद ने कहा कि अभी मंहगाई कम भी नहीं हुई कि पहली तारीख को मोदी सरकार ने देश वासियों को सिलैंडर के दाम बढ़ा फिर तानाशाही फरमान जारी कर दिया। क्या केंद्र सरकार इसीलिए आमजन द्वारा बनाई गई कि गरीबों के साथ ऐसा खेल जारी रहे।

पीसीसी सदस्य चौधरी महताब अहमद ने कहा कि एक तरफ कोरोना संक्रमण ने आमजन की आर्थिक स्थिति बिगाड़ कर रख दिया है तो दूसरी तरफ लगातार बढ़ रही महंगाई से आमजन त्रस्त है। पेट्रोल-डीजल के दाम आसमान छू रहे हैं। अब रसोई के सामान की बढ़ती कीमतें लोगों को रुलाने लगी हैं। महंगाई का आलम यह है कि गरीब व मध्यमवर्गीय परिवारों की रसोई से दाल दूर होने लगी है। कोरोना काल में इम्युनिटी मजबूत रखने के लिए चिकित्सक प्रोटीन युक्त आहार लेने को कह रहे हैं, ऐसे में यह कहां संभव है।

इस दौरान चौ. सपात मेवली, शरीफ सरपंच अड़बर, सुख्खी लंबरदार आलदोका, नईम इकबाल फिरोजपुर नमक, समसू ठेकेदार रेहना, अख्तर चंदैनी, लियाकत सालहेड़ी, शोराब सरपंच मालब, इल्यास सरपंच सालहेड़ी, वहीद सलम्बा, आसिफ चंदैनी, लीडर सालहेड़ी, अरशद चेयरमैन, मकसूद सिकरावा, मुबारिक मलिक, अंजुम पार्षद, तारिक पार्षद, तौफीक इंटक, मुबीन तेड़, शाहिद हुसैनपुर, शौकत नूह, आफाक एनएसयूआई सहित सैंकड़ों कांग्रेस कार्यकर्ता मौजूद रहे।