6666..फाइनल में ऋतुराज गायकवाड़ के शतक में उड़ी जडेजा की टीम, शतकों की झड़ी लगा रचा नया इतिहास

सौराष्ट्र विजय हजारे ट्रॉफी का अपना तीसरा फाइनल (Saurashtra vs Maharashtra, Final) खेल रहे हैं. Saurashtra vs Maharashtra, Final में सौराष्ट्र के खिलाफ महाराष्ट्र ने पहले बैटिंग की. लेकिन जैसी शुरुआत होनी चाहिए थी वैसी इस टीम की हुई नहीं.

Saurashtra vs Maharashtra, Final में टीम की पारी की शुरुआत धीमी रही.Saurashtra vs Maharashtra, Final में महाराष्ट्र का पहला विकेट 8 रन पर गिरा. इसके बाद दूसरे विकेट के लिए अर्धशतकीय साझेदारी हुई. हालांकि इसके बाद Saurashtra vs Maharashtra, Final में तीसरा विकेट एक बार फिर जल्दी गिर गया. टीम के स्लो स्टार्ट की स्क्रिप्ट ऐसी रही कि 32वें ओवर तक 3 विकेट खोकर वो सिर्फ 105 रन ही बना सके.

फाइनल में महाराष्ट्र की धीमी शुरुआत का मतलब ऋतुराज के बल्ले से भी रन उतने तेजी से नहीं बन रहे थे. लेकिन जैसे ही निगाहें विकेट पर जमीं ऋतुराज गायकवाड़ ने रन और बॉल को बराबर करना शुरू कर दिया. ऋतुराज गायकवाड़ ने जल्दी ही अपने शतक की स्क्रिप्ट लिखी, जो कि टूर्नामेंट के अंदर उनके बल्ले से निकला पिछली 5 पारियों में चौथा और लगातार शतक रहा.

इससे पहले उन्होंने असम के खिलाफ सेमीफाइनल में 168 रन और यूपी के खिलाफ क्वार्टर फाइनल में नाबाद 220 रन बनाए थे. गायकवाड़ की इन पारियों से साफ जाहिर होता है कि वो बड़े मुकाबलों के कितने बड़े खिलाड़ी हैं. और, कितनी कुशलता के साथ दबाव को झेलने वाले खिलाड़ी हैं.

विजय हजारे ट्रॉफी के फाइनल में ऋतुराज गायकवाड़ की इनिंग शतक के बाद थम गई. उन्होंने 131 गेंदों का सामना करते हुए 108 रन बनाए, जिसमें 7 चौके और 4 छक्के शामिल रहे. उनके इस शतक की बदौलत ही महाराष्ट्र की टीम फाइनल में सौराष्ट्र के खिलाफ 248 रन बनाने में सफल रही.