फ़लस्तीन

इज़राइल की क्रूरता, मासूम बच्चों, महिलाओं बुज़ुर्गों को बनाया निशाना अब तक 65 बच्चों ने गंवाई जान

नई दिल्लीः ग़ज़ा में फिलिस्तीनी स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि 10 मई को से चल रहे इजरायल और फ़लस्तीन संघर्ष में 65 बच्चों की जानें गईं हैं। स्वास्थय मंत्रालय के मुताबिक़ इजरायल की ओर से हुए हमले में 230 फिलिस्तीनियों की जान गई हैं, मृतकों में 65 बच्चे भी शामिल हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि मृतकों में 39 महिलाएं और 17 बुजुर्ग शामिल हैं। इनमें से ज्यादातर हवाई हमलों में मारे गए हैं। बिना किसी चेतावनी के ये हमले उस वक्त हुए जबकि लोग अपने घरों अंदर थे।

इस्राइली हवाई हमलों में कम से कम 1,710 लोग घायल हुए हैं, जिनमें 55 की हालत गंभीर है। घायलों में करीब 470 बच्चे और 310 महिलाएं शामिल हैं। मृतकों में कई गर्भवती महिलाएं शामिल हैं, जिनमें इयाद साल्हा, उनकी गर्भवती पत्नी और छोटी बेटी भी शामिल थीं, इनके घर को बीती रात निशाना बनाया गया था। साल्हा व्हीलचेयर से चलतीं हैं और 14 साल से चल-फिर नहीं पा रही हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि कम से कम 12 परिवार पूरी तरह से नष्ट हो गए हैं।

इज़राइल की इस क्रूरता के ख़िलाफ अब दुनिया भर में प्रदर्शन हो रहे हैं। इंग्लैंड मोरक्को, जर्मनी, अमेरिका में भी इस हिंसा के ख़िलाफ प्रदर्शन हुए हैं। इसके अलावा कई अंतर्राष्ट्रीय ख्याती प्राप्त हस्तियों जिसमें फिल्म अभिनेता, क्रिकेटर, फुटबॉलर शामिल हैं, उन्होंने भी फ़लस्तीनियों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त करते हुए इज़राइल की इस हिंसक कार्रावाई की निंदा की है। हाल ही में भारत ने भी फ़लस्तीन के समर्थन में मज़बूती से अपना पक्ष रखते हुए फ़लस्तीनियों की जायज मांग का समर्थन करते हुए हिंसा की निंदा की है।