एयरलाइंस ने की श्रीलंका के लिए सीटों में की कटौती

0
67

कोलंबो: श्रीलंका में विदेशी मुद्रा संकट के कारण जेट ईंधन की कमी और धन प्रत्यावर्तन के मुद्दों को देखते हुए कई एयरलाइनों ने हाल के महीनों में श्रीलंका के लिए अपनी सीट क्षमता में 53 प्रतिशत की कटौती की है, जो श्रीलंका के संकटग्रस्त पर्यटन उद्योग के लिए एक और चुनौती है।

डेली मिरर ने सोमवार को एक प्रमुख एयरलाइन के एक अनाम प्रतिनिधि के हवाले से अपनी रिपोर्ट में बताया कि एयरलाइंस यह कटौती करने काे मजबूर थीं। श्रीलंका के जबरदस्त आर्थिक संकट को देखते हुए कई देशों की एयरलाइंस ने यहां से हाथ खींच लिए हैं।

एविएशन वर्ल्डवाइड लिमिटेड की एयरलाइन फ़्रीक्वेंसी एंड कैपेसिटी ट्रेंड स्टैटिस्टिक्स रिपोर्ट के अनुसार श्रीलंका में हवाई सीट की क्षमता जून में 27.6 प्रतिशत घटकर 313,358 सीटों पर आ गई।

बाजार में विदेशी मुद्रा की कमी के कारण स्थानीय एयरलाइन प्रतिनिधि पिछले छह महीनों से टिकटों की बिक्री के माध्यम से एकत्र किए गए धन को बैंकिंग चैनलों के जरिए अपने प्रबंधकों को भेजने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। दैनिक की रिपोर्ट के अनुसार, यह अब तक बढ़कर 15 करोड़ डॉलर हो गया है।

एयरलाइन के प्रतिनिधियों ने सरकार से अनुरोध किया है कि सेंट्रल बैंक द्वारा एकत्र किए गए निर्यात आय का दो प्रतिशत अपने प्रबंधक को भेजने के लिए आवश्यक विदेशी मुद्रा स्रोत को प्रदान करें। इसके अलावा, उन्होंने सरकार से आग्रह किया है कि एयरलाइंस को ग्राउंड हैंडलिंग शुल्क का भुगतान करने की अनुमति दी जाए। सरकार ने अभी तक इन सुझावों पर सकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं दी है।

मई से जेट ईंधन की कमी ने भी एयरलाइनों को अपनी उड़ान आवृत्तियों में कटौती करने के लिए मजबूर होना पड़ा था। गत 28 जून से नागरिक उड्डयन प्राधिकरण ने एयरलाइंस से अपनी वापसी यात्रा के लिए ईंधन ले जाने का आग्रह किया है. क्योंकि कोलंबो में जेट ईंधन स्टॉक सूख गया था।

रिपोर्ट में कहा गया है कि अगर मौजूदा चुनौतीपूर्ण माहौल बना रहता है, तो एयरलाइनों को श्रीलंका से पूरी तरह से हटने के साथ अपनी आवृत्तियों में भारी कटौती करने के लिए मजबूर होना पड़ेगा।

Leave a Reply